मानो या ना मानो: सिद्धाश्रम में नहीं होती है लोगों की मृत्यु !

उदय दिनमान डेस्कःस्वर्ग लोक की कल्पना आते ही हमारे मन में ऐसी तस्वीर सामने आती है जहां किन्नरों से संगीत बजवायाजाता है और गंधर्वो का दिव्य गायन करवाया व अप्सराओं से नृत्य करते हुए हम कल्पनाओं में खो जाते हैं। ऐसे स्थान की कल्पना सिर्फ हमारा मन स्वर्ग लोक की तस्वीर को प्रस्तुत करता है। हम आपको आज एक ऐसे स्थान के बारे में बता रहे है जहां किसी भी व्यक्ति की मृत्यु नहीं होती है। यह स्थान इस गूगल युग में आज भी है और यहां रहने वाले लोग सैकड़ों सालों से जीवित हैं और तपस्या में रत है। ऐसे स्थान के बारे में आज के युग में सभी जानना चाहते हैं। यह कहा जाए कि यह धरती पर साक्षात स्वर्ग है तो इस बात में कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

आप मानो या ना मानो लेकिन यह सत्य है कि हिमालय में स्थित सिद्धाश्रम में लोगों की मृत्यु नहीं होती है। इतिहास और वर्तमान के बीच की इस कड़ी के बारे में आप जानेंगे तो आप यहां के रहस्य को जानकर हैरान हो जाएंगे। दुनिया में जो आता है उसे एक निश्चित समय के बाद संसार से जाना भी पड़ता है। जन्म लिए हुए व्यक्ति की मृत्यु निश्चित है। इस दुनिया में अमरत्व किसी को भी प्राप्त नहीं है, यहां लोगों की मृत्यु नहीं होती। यहां के लोग अमर है।चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से-

लगभग 2400 किलोमीटर की लम्बाई में फैली यह जगह हिमालय में है। जी हां, वेदो, पुराणों और कई उपन्यासों में इस बात का जिक्र किया गया है कि हिमालय में एक ऐसी जगह है जहां रहने वाले लोग अमर हैं। इस रहस्यमयी शहर में रहने वाले निवासियों की उम्र नहीं बढ़ती है। वक्त मानों इनके लिए थम सा गया है।मान्यताओं के अनुसार, समय-समय पर इस दुनिया से लोग इंसानी दुनिया में आते हैं और इससे मानव दुनिया में उथल-पुथल मच जाती है। कई बड़े बदलाव भी होते हैं। कलियुग के अवतार भगवान कल्कि देव के भविष्यवाणी में भी इस शहर का जिक्र है। ऐसा माना जाता है कि कल्कि देव के गुरु इसी शहर में हैं। यही रहकर वह उनके जन्म की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

हर धर्म कथा में इस शहर का जिक्र अलग-अलग नामों से किया गया है जैसे कि,सांभल, सिद्धाश्रम या फिर शांगरी-ला। ऐसा कहा जाता है कि युधिष्ठिर अपने जीवन के अंतिम क्षणों में अपने परिवार संग इसी शहर में आ गए थे।हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि इस शहर को ढूंढ पाना आसान नहीं है। मैपिंग टेक और नेविगेशन सिस्टम की मदद से भी इस जगह को आज तक ट्रेस कर पाना संभव नहीं हो सका है। शायद आम इंसान की पहुंच से काफी दूर है सिद्धाश्रम। भले ही एक सामान्य इंसान इनकी दुनिया में नहीं पहुंच पाता हो, लेकिन सांभल के लोगों ने समय-समय पर इंसान की दुनिया में हस्तक्षेप कर चुके हैं और इससे मानव जीवन में कई सारे परिवर्तन भी हुए हैं।

हिमालय में एक गुप्त भूमि में स्थित है, जहां महान योगी, साधु और ऋषि रहते हैं

इस अलौकिक आश्रम का उल्लेख चारों वेदों के अलावा अनेकों प्राचीन ग्रन्थों में मिलता है। इसके एक ओर कैलाश मानसरोवर है, दूसरी ओर ब्रह्म सरोवर है और तीसरी ओर विष्णु तीर्थ है। स्वयं विश्वकर्मा ने ब्रह्मादि के कहने पर इस आश्रम की रचना की। यह भी मान्यता है कि राम, कृष्ण, बुद्ध, शंकराचार्य माँ आनन्दमयीऔर निखिल गुरु देव आदि दैवी विभूतियाँ सिद्धाश्रम में सशरीर विद्यमान हैं। ग्यांगुंज के नाम से प्रसिद्ध, एक रहस्यमयी धर्मोपदेश माना जाता है, जो एक परंपरा के अनुसार, हिमालय में एक गुप्त भूमि में स्थित है, जहां महान योगी, साधु और ऋषि रहते हैं।

यह स्थान तिब्बतियों द्वारा शम्भाला की रहस्यमय भूमि के रूप में भी प्रतिष्ठित है। एक अन्य परंपरा के अनुसार, सिद्धाश्रम तिब्बती क्षेत्र में कैलाश पर्वत के पास स्थित है। यद्यपि कोई भी साधु, संन्यासी, यति, भिक्षु और योगी किसी भी नाम से ‘सिद्धाश्रम’ को जानते होंगे या विभिन्न पंथों ने अपनी मान्यताओं के अनुसार अलग-अलग पूजा या साधना विधियों का उपयोग किया होगा।

इस प्राचीन अलौकिक भूमि का उल्लेख चार वेदों के साथ कई प्राचीन शास्त्रों में किया गया है। आध्यात्मिक यात्रा में सिद्धाश्रम को एक दिव्य स्थान के रूप में वर्णित किया गया है। इस प्रकार यह भी माना जाता है कि इस ब्रह्मांड में अपने दिव्य कार्यों का निर्वहन करते हुए आध्यात्मिक रूप से सशक्त योगी सिद्धाश्रम के संपर्क में रहते हैं और वे नियमित रूप से यहां आते हैं।

सिद्धाश्रम को आध्यात्मिक चेतना, दिव्यता के केंद्र और महान ऋषियों की वैराग्य भूमि का आधार माना जाता है। सिद्धाश्रम मानव और सभी दृश्य और अदृश्य प्राणियों के लिए समान रूप से दुर्लभ है। इस प्रकार, सिद्धाश्रम को एक बहुत ही दुर्लभ दिव्य स्थान माना जाता है। लेकिन साधना प्रक्रिया के माध्यम से कठिन साधना और साधना पथ पर चलकर इस दुर्लभ और पवित्र स्थान में प्रवेश करने के लिए दिव्य शक्ति प्राप्त करना संभव होगा।

सिद्धाश्रम हिमालय में एक गुप्त और रहस्यमय भूमि है, जहाँ महान सिद्ध योगी, साधु और संत रहते हैं। सिद्धाश्रम हमारे पूर्वजों, संतों, संतों और उच्च क्रम के योगियों द्वारा आश्रम है। इसका उल्लेख कई भारतीय महाकाव्यों, वेदों, उपनिषदों और पुराणों में किया गया है जिनमें ऋग्वेद, मानव सभ्यता का सबसे पुराना ग्रंथ है।सिद्धाश्रम प्रबुद्ध लोगों या सिद्धों के लिए समाज है। जो व्यक्ति साधना में उच्च स्तर तक पहुँचता है, वह गुरु के आशीर्वाद से रहस्यमयी सिद्धाश्रम पहुँच सकता है, जो इस स्थान का नियमित स्वामी है।

यह आश्रम मानसरोवर झील और कैलाश के पास स्थित है। सिद्ध योगी और संन्यासी हजारों वर्षों से इस स्थान पर ध्यान कर रहे हैं। विभिन्न धर्मों में वर्णित कई रहस्यमय स्थानों की तरह इस जगह को नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता है, यह एक अनुभव है और केवल ध्यान और आध्यात्मिक जागरूकता के मार्ग से हम इस स्थान का अनुभव कर सकते हैं। स्वामी विशुद्धानंद परमहंस ने सबसे पहले सार्वजनिक रूप से इस स्थान की बात की थी। उन्हें बचपन में कुछ समय के लिए वहाँ ले जाया गया और उन्होंने लंबे समय तक ज्ञानगंज आश्रम में अपनी साधना की।

हिंदू धर्म में कई लोग मानते हैं कि महर्षि वशिष्ठ, विश्वामित्र, कणाद, पुलस्त्य, अत्रि, महायोगी गोरखनाथ, श्रीमद शंकराचार्य, भीष्म, कृपाचार्य को भौतिक रूप में वहाँ भटकते देखा जा सकता है और किसी को भी उनके उपदेश सुनने का सौभाग्य प्राप्त हो सकता है। कई सिद्ध योगी, योगिनियां, अप्सरा (एंजल), संत इस स्थान पर ध्यान करते पाए जाते हैं। बगीचे में सुंदर फूल, पेड़, पक्षी, सिद्ध-योग झील, ध्यान करने वाले संत और जगह की कई अन्य चीजों को शब्दों में वर्णित नहीं किया जा सकता है।

रहस्यमय सिद्ध योगियों का आश्रम अद्भूत

हिमालय का एक रहस्यमय सिद्ध योगियों का आश्रम अद्भूत,अद्वितीय,अनिर्वचनीय व आश्चर्यजनक जहां पहुंचना ही जीवन की पूर्णता है|सिद्धाश्रम एक अत्यंत उच्चकोटि की भावभूमि पर एक अत्यन्त सिद्ध आश्रम है जो कई वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। इसके एक ओर कैलाश मानसरोवर है दूसरी ओर ब्रह्म सरोवर है और तीसरी ओर विष्णु तीर्थ है। इन तीनों पुण्य स्थलियों के बीच यह सिद्धाश्रम स्थित है। स्वयं विश्वकर्मा ने ब्रह्मादि के कहने पर इस आश्रम की रचना की।

परमहंस स्वामी सच्चिदानंद प्रभु जिनकी आयु हजारों-हजारों वर्षो की है और जो समस्त गुरुओं के गुरु हैं वे इस श्रेष्ठतम आश्रम के संस्थापक, संचालक एवं नियंता हैं। सच्चिदानंद जी के बारे में स्वयं ब्रह्मा ने कहा है कि वे साक्षात ब्रह्मा का मूर्तिमय पुंज है।

भगवान शिव ने उनको आत्म स्वरुप कहा है और सभी देवी-देवता उनकी एक झलक पाने को लालायित रहते हैं। सिद्धाश्रम में चारों ओर दिव्य स्फटिक शिलाएं देखने को मिलती हैं जिस पर हजारों वर्ष के योगी साधनारत एवं समाधिस्थ हैं। वहां जगह-जगह पर दिव्य कल्पवृक्ष देखने को मिलते हैं जिनका विभिन्न शास्त्रों में वर्णन है। इनके नीचे बैठकर व्यक्ति जो इच्छा करता है वह पूर्ण होती ही हैं।

सिद्धाश्रम की आयु अत्यधिक शीतल एवं संगीतयुक्त है। उसमें एक थिरकन है, एक गुनगुनाहट है, एक मधुरता है,अद्वितीयता है। वहां देव संगीत निरंतर गुंजरित होता रहता है एवं उसको सुनकर मन में एक तृष्टि का अहसास होता है। कहीं कहीं उच्च कोटि के योगी यज्ञ सम्पन्न करते दिखाई देते हैं और सारा वातावरण उस यज्ञ की पवित्र धूम से आप्लावित रहता है। वहां सभी अपनी-अपनी क्रिया में संलग्न रहते हैं। वास्तव में ही वहां पहुंचने पर शरीर एवं हृदय ऐसे आनंद से भर जाता है जिसका वर्णन नहीं किया जा सकता।

इस सिद्धाश्रम का सबसे अधिक आकर्षण का केन्द्र है यहां की सिद्धयोगा झील। कई कि०मी० विस्तार में फैली हुई यह अद्भूत झील कायाकल्प के गुणों से युक्त है। ८० साल का व्यक्ति भी यदि इसमें स्नान कर लेता है तो वह सौन्दर्य से परिपूर्ण कामदेव के समान हो जाता है। उसके सारे मानसिक एवं दैहिक क्लेश समाप्त हो जाते हैं और वह पूर्ण आरोग्य को प्राप्त करता है। इस झील में कई स्फटिक नौकाएं हैं जिसमें साधक जन एवं देवागंनाएं विहार करते दिखाई देते हैं।

वास्तव में ही सिद्धाश्रम काल से परे कालजयी आश्रम है। यहां पर न सुबह होती है न शाम होती है और न ऋतु परिवर्तन ही होता है। यहां पर सदैव वसंत ऋतु का ही मौसम रहता है एवं सदैव ही शीतल चॉदनी सा प्रकाश बिखरा रहता है। योगियों के शरीर से जो आभा प्रकाशित होती है उससे भी यहां प्रकाश फैला रहता है।

इस कालजयी आश्रम में किसी की मृत्यु नहीं होती है। हर कोई सौंदर्यवान, तरुण एवं रोग रहित रहता है। यहां पर उगी वनस्पति, पुष्प एवं कमल भी कभी मुरझाते नहीं है।सतयुग, त्रेताकालीन, द्वापर कालीन अनेकानेक दिव्य विभूतियां इस दिव्य आश्रम में आज भी विद्यमान हैं। राम, बुद्ध, हनुमान, कृष्ण, महावीर, गोरख नाथ, सप्त ऋषिगण, जिनका नाम लेना ही इस पूरे जीवन को पवित्र और दिव्य बनाने के लिए काफी है। यहां पर सशरीर विद्यमान हैं।

परमहंस त्रिजटा जी महाराज, महावतार बाबा जी आदि इस दिव्य आश्रम की श्रेष्ठ विभूतियां हैं। जगह-जगह पर अनेकानेक योगी तांत्रिक इन महापुरुषों का सत्संग लाभ करते हुए देखे जा सकते हैं। अगर यह भूमि तप भूमि हैं, साधना या तपस्या भूमि हैं तो यह सही अर्थो में सौन्दर्य भूमि भी है। समस्त ब्रह्माण्ड का सौन्दर्य ही मानों इस आश्रम में समाया हुआ है।सिद्धाश्रम देवताओं के लिए भी दुर्लभ एवं अन्यतम स्थान है, जिसे प्राप्त करने के लिए उच्च कोटि के योगी भी तरसते रहते हैं। प्रत्येक साधक अपने मन में यह आकांक्षा लिये रहता है कि उसे एक बार सिद्धाश्रम प्रवेश का अवसर मिल जाएं।

परमहंस सच्चिदानंद जी के प्रमुख शिष्य युगपुरुष परमहंस निखिलेश्वरानंद जी इस आश्रम के प्राण हैं। आज जो भी नवीनताएं एवं रोचक बदलाव इस आश्रम में हुए हैं वे सब उन्हीं के प्रयत्नों से संभव हो सका है।वास्तव में बिना निखिलेश्वरानंद जी के तो सिद्धाश्रम की कल्पना ही नहीं की जा सकती। यही कारण है कि सिद्धाश्रम को निखिल भूमि के नाम से भी पुकारा जाता है।

पर इस आश्रम को स्थूल नेत्रों से नहीं देखा जा सकता पर सामान्य व्यक्ति भी सिद्धाश्रम जा सकता है। इसके लिए तीन कसौटियां हैं। प्रथम उसने दस महाविद्याओं में से दो महाविद्याएं सिद्ध की हो या उसने षटचक्र भेदन करके सहस्रार में कुण्डलिनी को अवस्थित कर लिया हो या फिर तीसरा मार्ग है किसी श्रेष्ठतम सद्गुरु की कृपा से सिद्धाश्रम जाना। पर हर कोई सन्यासी या हर कोई गुरु यह नहीं कर सकता।

हरिद्वार, इलाहाबाद, वाराणसी में बैठे संयासी किसी को सिद्धाश्रम नहीं ले जा सकते हैं। शिष्य को वे ही सद्गुरु सिद्धाश्रम ले जा सकते हैं जो स्वयं सिद्धाश्रम की परम्परा से जुड़े हैं, जो सिद्धाश्रम सशरीर गये हुए हैं और वहां से वापस भी आए हैं।

जिनका आवागमन हैं सिद्धाश्रम में, जिन्होंने दसों महाविद्यां सिद्ध की हैं एवं जिनका सहस्रार पूर्ण जागृत हैं,और जो ब्रह्माण्ड भेदन में पूर्ण सिद्धहस्त हैं केवल और केवल मात्र वे ही अपने शिष्य को प्रवेश लेने के बाद सिद्धाश्रम ले जा सकते हैं आप सबका भाग्योदय हो। आप में सिद्धाश्रम जाने की ललक उठे,आपको ऐसे गुरु प्राप्त हो आप उन्हें पहचान सकें एवं उनकी परीक्षाओं में सफल होते हुए सिद्धाश्रम जा सके, यही मेरी कामना है।

परम पूज्य योगीराज परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद जी महाराज का नाम अपने आप में ही देव गंगा की तरह पवित्र, उज्जवल एवं शीतलता का प्रतीक है। मात्र उनके संसर्ग, साहचर्य एवं सम्पर्क से ही जीवन की पूर्णता का आभास अनुभव होने लगता है।एक ही जीवन जीते हुए उन्होंने प्रत्येक युग को देखा। द्वापर को, त्रेता को और इससे भी पहले वैदिक काल को। उन्हें वैदिक ऋचाएं ज्ञात हैं, द्वापर की एक-एक घटना स्मरण है, त्रेता के एक-एक क्षण के साक्षी रहे हैं।

उन्होंने जो साधनाएं सम्पन्न की है वे अपने आप में ही अद्वितीय हैं। अगम्य हजारों-हजार वर्ष के योगी भी उनके सामने नतमस्तक रहते हैं क्योंकि वे योगी उनके आभ्यतंरिक जीवन एवं भावनाओं से परिचित हैं। वे जानते हैं कि यह व्यक्तित्व अनूठा है, अद्वितीय है, इसके पास ज्ञान एवं साधनाओं का इतना विशाल भण्डार है कि वे योगी कई सौ वर्षो तक उनके साहचर्य में रहकर भी उसे पूरी तरह प्राप्त नहीं कर सकते।

सम्पूर्ण वेद एवं शास्त्र उन्हें स्मरण हैं और जब वे बोलते हैं तो ऐसा प्रतीत होता है कि स्वयं ब्रह्मा चारों मुख से वेद उच्चारित कर रहे हैं। मैंने उन्हें ब्रह्म स्वरुप को देखा है उनके विष्णु स्वरुप को देखा है, उनके रुद्र स्वरुप को देखा है। उनके रौद्र स्वरुप का भी साक्षी रहा हूं। मैंने उनके जीवन के हर क्षण को जिया है और यह अनुभव किया है कि वास्तव में ही योगीश्वर निखिलेश्वरानंद जी इस समस्त ब्रह्माण्ड की अद्वितीय विभूति हैं और इस बात का साक्षी मैं ही नहीं अपितु सैकडों योगी, ऋषि एवं मुनि रहे हैं।

सिद्धाश्रम का हर योगी इस बात को महसूस करता है कि निखिलेश्वरानंद जी नहीं हैं तो यह सिद्धाश्रम भी नहीं है। क्योंकि निखिलेश्वरानंद जी इस सिद्धाश्रम के कण-कण मैं व्याप्त हैं। वे किसी को दुलार देते हैं, किसी को सहलाते हैं। किसी को झिड़कते हैं तो केवल इसलिए कि वह कुछ सीख लें। केवल इसलिए कि वह कुछ समझ लें, केवल इसलिए कि वह जीवन में पूर्णतया प्राप्त कर लें और सभी ऋषिगण उनके पास बैठकर अत्यंत शीतलता का अनुभव करते हैं। ऐसा लगता है कि एक साथ ब्रह्मा, विष्णु, महेश के साथ बैठे हो।

वे अद्वितीय युग पुरुष हैं हो सकता है कि वर्तमान काल उनको समझ नहीं सके क्योंकि एक अनिर्वचनीय व्यक्तित्व को काल अपनी बाहों में बॉध नहीं सकता, समय उनकी गाथा नहीं गा सकता वह तो जो उनके साथ रहा है,जो साक्षी भूत रहा है वहीं समझ सकता हैक्योंकि उन्होंने तो कई रुपों में जन्म लिया शंकराचार्य के रुप में, बुद्ध के रुप में, महावीर के रुप में, योगियों के रुप में और सभी रुपों में वे अपने-आप में उच्चतम रहे।

कृष्ण ने गीता में अर्जुन को जिस प्रकार अपना विराट स्वरुप दिखाया, उससे भी उच्च एवं अद्धितीय विराट स्वरुप मेरे अलावा हजारों संयासियों ने उनका देखा है और अहसास किया है कि वास्तव में ही वे १०८ कला पूर्ण एवं अद्वितीय व्यक्तित्व हैं। एक युग पुरुष हैं जो एक विशेष उद्देश्य के लिए इस पृथ्वी ग्रह पर आए हैं।

वास्तव में ही सिद्धाश्रम इस समस्त ब्रह्माण्ड का आध्यात्मिक चेतना बिन्दु है। ऋषि, योगी, मुनि एवं हजारों हजारों वर्ष की आयु प्राप्त तपस्वी भी मन में यह आस पाले रहते हैं कि जीवन में एक बार भी अगर सिद्धाश्रम के दर्शन हो जाए तो यह हजारों-हजारों वर्ष का जीवन धन्य हो जाए।

सिद्धाश्रम के मुख्य महोत्सवों में किन्नरों से संगीत बजवाया, गंधर्वो का दिव्य गायन करवाया एवं अप्सराओं से नृत्य भी करवाया और सब ऐसा हुआ तो पूरा सिद्धाश्रम एक क्षण रुक सा गया क्योंकि इससे पहले वहां अप्सरादि का नृत्य नहीं हुआ था। इस सबको मर्यादा के विपरीत माना जाता था।आप तो सिद्धाश्रम में आमूल चूल परिवर्तन करना चाहते थे और यह परिवर्तन वहां स्थित ऋषियों एवं मुनियों को असह्य था और जब आपने उर्वशी से एक घंटे तक नृत्य करवाया तो सबकी आंखें परम पूज्यस्वामी सच्चिदानंद जी पर टिकी हुइ थी कि अब वे किसी भी समय कुछ भी कर सकते हैं।

मगर आपने उस दिन छोटे से सारगर्भित शब्दों में यह समझाया कि यदि आँख साफ है, यदि मन में विकार नहीं है तो फिर चाहे नृत्य हो या चाहे संगीत हो वह गलत नहीं है क्योंकि नृत्य एवं संगीत जीवन का एक आवश्यक अंग है। ठीक उसी तरह जिस तरह वेद मंत्र, साधनाएं एवं सिद्धियां हैं। गुरुदेव की आंखें आफ ऊपर टिकी हुई थी और आपने जब कहा- यह मेरी धृष्टता हो सकती है कि मैंने इस पारस्परिक कार्यक्रम में एक नया अध्याय जोड़ा है और अगर इसके लिए मुझे यहां से जाना भी पड़े तो मैं तैयार हूं। मगर मैं जहां तक समझता हूं मैंने शास्त्र एवं मर्यादा के खिलाफ कोई कार्य नहीं किया है, फिर भी गुरुदेव सर्वोपरि हैं और वे जो भी आज्ञा देगे, वह मुझे सहर्ष स्वीकार है।

उस समय अधिकतर ऋषि गुरुदेव स्वामी सच्चिदानंद जी को सुनने के लिए व्यग्र थे और जब उन्होंने कहा- निखिल ने जो कुछ भी परिवर्तन किया है वह शास्त्र मर्यादा के अनुसार किया है तो सभी आश्चर्य युक्त हर्ष से विभोर हो गये। वास्तव में ही उस दिन से सिद्धाश्रम का स्वरुप ही बदल गया। अब वह इन्द्र के नंदन कानन से भी श्रेष्ठ है और देवी-देवता भी वहां आने को तरसते हैं।

सिद्धाश्रम में वेदकालीन ऋषि जैसे वशिष्ठ,विश्वामित्र, गौतम, कणाद, भारद्वाज आज भी विद्यमान हैं, राम, कृष्ण, बुद्ध आदि भी वहां विचरण करते हुए दिखाई दे जाते हैं पर सभी इस बात को स्वीकार करते हैं कि युग पुरुष निखिलेश्वरानंद जी अपने आप में एक अन्यतम विभूति हैं और उन जैसी ऊंचाई प्राप्त करना असम्भव है। तभी तो आज सिद्धाश्रम में सबसे ज्यादा उन्हीं के शिष्य हैं स्वयं सिद्धाश्रम भी ऐसे अद्वितीय युग पुरुष को प्राप्त कर गौरवान्वित हुआ हैं।

कल्कि को विष्णु का भावी और अंतिम अवतार

धार्मिक एवं पौराणिक मान्यता के अनुसार जब पृथ्वी पर पाप बहुत अधिक बढ़ जाएगा। तब दुष्टों के संहार के लिए विष्णु का यह अवतार यानी ‘कल्कि अवतार’ प्रकट होगा। कल्कि को विष्णु का भावी और अंतिम अवतार माना गया है। भगवान का यह अवतार ” निष्कलंक भगवान ” के नाम से भी जाना जायेगा। आपको ये जानकर आश्चर्य होगा की भगवान श्री कल्कि ६४ कलाओं के पूर्ण निष्कलंक अवतार हैं।

शास्त्रों के अनुसार यह अवतार भविष्य में होने वाला है। कलियुग के अन्त में जब शासकों का अन्याय बढ़ जायेगा। चारों तरफ पाप बढ़ जायेंगे तथा अत्याचार का बोलबाला होगा तक इस जगत् का कल्याण करने के लिए भगवान विष्णु कल्कि के रूप में अवतार लेंगे।श्रीमद्भागवत पुराण और भविष्यपुराण में कलियुग के अंत का वर्णन मिलता है. कलियुग में भगवान कल्कि का अवतार होगा, जो पापियों का संहार करके फिर से सतयुग की स्थापना करेंगे. कलियुग के अंत और कल्कि अवतार के संबंध में अन्य पुराणों में भी इसका वर्णन मिलता है.

युग परिवर्तनकारी भगवान श्री कल्कि के अवतार का प्रयोजन विश्वकल्याण बताया गया है। श्रीमद्भागवतमहापुराण में विष्णु के अवतारों की कथाएं विस्तार से वर्णित है। इसके बारहवें स्कन्ध के द्वितीय अध्याय में भगवान के कल्कि अवतार की कथा विस्तार से दी गई है जिसमें यह कहा गया है कि “सम्भल ग्राम में विष्णुयश नामक श्रेष्ठ ब्राह्मण के पुत्र के रूप में भगवान कल्कि का जन्म होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *