ट्विटर-फेसबुक-अमेजन के बाद गूगल में भी छंटनी

नई दिल्ली : बड़ी-बड़ी आईटी कंपनियां इन दिनों संभावित मंदी से जूझ रही हैं। लागत में कमी करने के लिए ये कंपनियां कर्मचारियों पर छंटनी की तलवार चला रही हैं। ट्विटर, मेटा, अमेजन जैसी कंपनियों में बड़ी संख्या में कर्मचारी निकाले जा रहे हैं। इस बीच गूगल से भी ऐसी ही खबर सामने आई है।

दरअसल, एक्टिविस्ट निवेशक टीसीआई फंड मैनेजमेंट नें गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट से कहा है कि वह अपने कर्मचारियों की संख्या कम करे, जिससे लागत में कमी आए। अल्फाबेट में 2017 से छह बिलियन की हिस्सेदारी वाले निवेशक ने कंपनी से कहा है कि कंपनी के पास बहुत अधिक संख्या में कर्मचारी हैं और प्रति कर्मचारी लागत बहुत अधिक है।

निवेशक टीसीआई ने कहा है कि अल्फाबेट अपने कई कर्मचारियों को ज्यादा सैलरी देता है। इसके साथ ही भर्ती के मामले में कंपनी ने 2017 से लगातार 20 प्रतिशत की वृद्धि की है और इसे दोगुना कर रही है, जिसे कम किया जाना जरूरी है। हालांकि, अल्फाबेट की ओर से अभी तक इस मामले में कोई टिप्पणी नहीं की गई है।

बता दें, अल्फाबेट इन दिनों विज्ञापनदाताओं द्वारा खर्च में कटौती की समस्या से जूझ रही है। ऐसे में कंपनी ने अक्तूबर के अंत में कहा था कि उसकी योजना आधे से अधिक भर्ती में कटौती करने की है।

अल्फाबेट के शेयरधारक ने प्रबंधन और बोर्ड को लिखे पत्र में कहा है कि अब लागत को अनुशासित करने की आवश्यकता है, क्योंकि राजस्व वृद्धि धीमी है। राजस्व वृद्धि से अधिक लागत एक खराब वित्तीय अनुशासन का संकेत है।

जानकारी के मुताबिक, ट्विटर से अब तक 3700 लोगों को नौकरी से निकाला जा चुका है। वहीं मेटा ने भी 11 हजार कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। यही हाल माइक्रोसॉफ्ट का है, जहां करीब एक हजार कर्मचारियों की छंटनी हुई है। इसके अलावा नेटफ्लिक्स ने करीब 500, स्नैपचैट ने 1500 कर्मचारियों को निकाला है। अमेजन भी 10 हजार कर्मचारियों को निकाल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.