आवेदकों की वर्चुअल के माध्यम से साक्षत्कार लिया

पौड़ी: जिलाधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे की अध्यक्षता में आज मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत जनपद के आवेदकों की वर्चुअल के माध्यम से साक्षत्कार लिया गया। विभिन्न स्वरोजगार परक योजना हेतु 70 आवेदक मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के लिए साक्षात्कार में शामिल हुए, जिनमे से 62 लाभार्थियों का चयन किया गया। जबकि इससे पूर्व गत माह हुए साक्षात्कार में 156 लाभार्थियों का चयन किया गया था।

अब तक करीब 220 आवेदकों की आवेदन चयन कर बैंकों के लिए ऋण वितरण हेतु भेज दिये गये हैं, जिनमें से 12 लाभार्थियों को ऋण वितरण किया जा चुका है, जो अपना स्वरोजगार स्थापित कर राज्य की महत्वाकांक्षी मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का लाभ उठा रहे हैं। मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत जनपद को 250 का लक्ष्य प्राप्त हुआ है।

जिलाधिकारी डॉ. जोगदण्डे ने स्वरोजगार हेतु आवेदकों से वर्चुअल माध्यम से साक्षात्कार के दौरान सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाने को कहा। कहा कि योजना के तहत अपना स्वरोजगार अपनाकर अपनी आर्थिकी मजबूत करने के साथ ही अन्य लोगों को भी रोजगार दें। आज साक्षात्कार में 62 योजनाओं का ऋण प्रदान करने के लिए चयन किया गया, जिसमे कुल 2.97 करोड़ का पूंजी निवेश तथा 128 रोजगार प्रस्तावित है।

चयनित प्रोजेक्ट में जनरल स्टोर, बकरी पालन, रेडीमेड गारमेन्ट, गाय पालन, रेस्टोरेंट, वुडन फर्नीचर विनिर्माण सहित अन्य शामिल हैं।महाप्रबंधक, जिला उद्योग केंद्र कोटद्वार मृत्युंजय सिंह ने कहा कि योजनांतर्गत 18 वर्ष से अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति सेवा क्षेत्र/व्यवसाय क्षेत्र व विनिर्माण क्षेत्र के उद्यमों हेतु 10 लाख तथा 25 लाख का ऋण बैंकों के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। कहा कि योजना हेतु प्रोजेक्ट का 20 प्रतिशत अनुदान देय है।

बैठक में वर्चुअल माध्यम से अग्रणी बैंक प्रबंधक अनिल कटारिया, उत्तराखंड ग्रामीण बैंक से मनोज कुमार, मुख्य पशुपालन अधिकारी डॉ. एसके बर्तवाल सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उदय दिनमान’ एक वैचारिक आंदोलन भी है। इस आंदोलन का सरोकार आर्थिकी, राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास व विकास से है। अकेले उत्तराखंड की बात करें तो यह क्षेत्र सदियों से न केवल धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है, बल्कि यह क्षेत्र मानव सभ्यता-संस्कृति का उद्गम स्थल भी समझा जाता रहा है। आधुनिक समय में विकास की अवधारणा के जन्म लेने के साथ हिमालयी समाज-संस्कृति को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ये चुनौतियां हमारी संस्कृति पर निरंतर प्रहार कर इसे गहरा आघात पहुॅचाने में तुली हुई है। हालांकि, सामाजिक, शारीरिक, आर्थिक आदि कष्टों के बावजूद यह संस्कृति अपने ताने-बाने से छिन्न-भिन्न नहीं हो सकी है। मगर निरंतर जारी प्रहारों से एकबारगी चितिंत होना स्वाभाविक है। ‘उदय दिनमान’ का प्रयास है कि राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास, विकास व आर्थिकी पर निरंतर हो रहे आघातों से जनमानस को सजग रखने का प्रयास किया जाए। यह कहकर हम कोई बड़ा दंभ नहीं भर रहे हैं। यह हमारा मात्र एक लघु प्रयास भर है। हमारी अपेक्षा व आकांक्षा है कि हमारे इस प्रयास में आपकी भागीदारी ही नहीं सुनिश्चित हो, बल्कि आपके विस्तृत अनुभवों, विचारों, सुझावों व गतिविधियों का लाभ ‘उदय दिनमान’ के द्वारा व्यापक जनमानस तक पहुंचे। उक्त क्रम में ‘उदय दिनमान’ के प्रयासों को बल प्रदान करने के निमित आप अपने अनुभवों, सुझावों व विचारों को लेख अथवा यात्रावृत्त, संस्मरण, रिर्पोट, कथा-कहानी, कविता, रेखाचित्र, फोटो आदि के रूप में प्रेषित करने का कष्ट करें। संपर्क करें। https://www.udaydinmaan.com/ संतोष बेंजवाल संपादक कन्हैया विहार, निकट कारगी चैक, देहरादून (उत्तराखंड) udaydinmaan@gmail.com Phone:0135-3576257 Mob:+91.9897094986 Email: udaydinmaan@gmail.com