चारधाम:निर्धारित तिथियों पर खुलेंगे कपाट, यात्रा नहीं; ऑनलाइन होंगे दर्शन

देहरादून। चारधाम गंगोत्री, यमुनोत्री, बदरीनाथ और केदारनाथ धामों के कपाट निर्धारित तिथियों पर तय मुहूर्त में खुलेंगे। प्रदेश सरकार ने साफ किया कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए चारधाम में किसी प्रकार की भीड़ नहीं होगी।

तय तिथियों पर चारधाम के कपाट खुलने पर वहां परंपरागत ढंग से पूजा-अर्चना होगी, जिसे सीमित संख्या में पुजारी संपन्न कराएंगे। फिलहाल चारधाम यात्रा नहीं होगी, अलबत्ता वीडियो अथवा टेली कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये लोग चारधाम के दर्शन कर सकेंगे। लॉकडाउन खत्म होने के बाद केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप यात्रा के संबंध में निर्णय लिया जाएगा।

अधिकारियों से मंथन के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने साफ किया कि चारधाम के कपाट तय तिथियों पर खुलेंगे और वहां पूजा-अर्चना पारंपरिक ढंग से होगी। हालांकि, यह कार्य सीमित संख्या में पुजारी संपन्न कराएंगे, लेकिन इसमें सभी परंपराओं व प्रविधानों का ध्यान रखा जाएगा। इसके अलावा चारधाम के दर्शनों मद्देनजर ऑनलाइन क्या-क्या किया जा सकता है, उसके लिए कदम उठाए जा रहे हैं।

उधर, चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ एवं गढ़वाल मंडलायुक्त रविनाथ रमन ने बताया कि कपाट हर वर्ष की तरह खोले जाएंगे, पूजा-अर्चना में रीति रिवाज का पूरा पालन किया जाएगा। अग्रिम आदेशों तक ये व्यवस्था रहेगी। फिलहाल चारधाम में श्रद्धालुओं को आने की इजाजत नहीं होगी। आगे जैसी भी स्थिति होगी, उसके अनुरूप निर्णय लिया जाएगा।

यह पूछे जाने पर कि बदरीनाथ व केदारनाथ के रावल इन दिनों दक्षिण भारत में हैं, उन्हें कैसे लाया जाएगा। इस पर बोर्ड के सीईओ ने कहा कि कपाट खुलने के अवसरों पर रावल की मौजूदगी के प्रयास किए जाएंगे। यदि किसी कारणवश वे नहीं आ पाते हैं तो उन्हें वीडियो या ई-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पूजा में शामिल करने का प्रयास किया जाएगा।

यह भी प्रयास किया जाएगा कि बदरीनाथ व केदारनाथ धाम में होने वाली पूजा-अर्चना को वीडियो या टेली कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये लाइव या ऑनलाइन किया जाए। इससे लोग बदरीनाथ व केदारनाथ के दर्शन ऑनलाइन कर सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *