कोरोना: उत्तराखंड बना देश के सामने नजीर

नैनीताल : उत्‍तराख्‍ांड में कोरोना संक्रमि‍त मरीज तेजी से रिकवर भी हो रहे हैं। अब तक प्रदेश में कोरोना पॉजीटिव मिले पचास फीसदी से अधिक मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं। कुमाऊं के कोविड-19 सुशीला त‍िवारी अस्‍पताल में भर्ती कुल 13 कोरोना संक्रमि‍त मरीजों में दस ड‍िस्‍चार्ज हो चुके हैं।

उन्‍हें एहत‍ियात के तौर पर 14 द‍िनों के लिए क्‍वारंटाइन क‍िया गया है। उम्‍मीद जताई जा रही है क‍ि तीनों अन्‍य मरीज भी स्‍वास्‍थ हैं, रिपोर्ट आने के बा जल्‍द उनको भी ड‍िस्‍चार्ज क‍िया जाएगा। क्वारंटाइन अवधि जहां 14 दिन रखी गई है वहीं ज्यादातर संक्रमित 15 दिन में ठीक हो जा रहे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार कोरोना के मरीजों को ठीक होने में छह हफ्ते तक का समय लग सकता है। मरीज के स्वस्थ्य होने की रफ्तार उसके इलाज के तरीके, देखभाल, जांच एवं शरीर की प्रतिरोधक क्षमता के आधार पर तय होती है।

कोरोना मरीजों का उपचार कर रहे राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी के वरिष्ठ फिजिशियन के अनुसार डॉक्टरों की टीम ने कोविड-19 मरीजों के साथ बेहतरीन तरीके से काम किया है। अब तक प्रदेश में कोरोना पॉजीटिव मिले पचास फीसदी से अधिक मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं।

62 साल के बुजुर्ग भी केवल सत्रह दिन में कोरोना वायरस से मुक्त होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं। दरअसल डॉक्टरों की ओर से इलाज की गाइडलाइन का सख्त अनुपालन, बेहतर निगरानी, जांच व इम्युनिटी बढ़ाने पर हो रहे फोकस के कारण मरीज इतनी तेजी से रिकवर करते हुए कोरोना को मात दे पाए हैं।

मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती 13 में से 10 कोरोना पॉजीटिव अस्पताल से ठीक होकर जा चुके हैं। करीब एक सप्ताह से कोई नया केस भी नहीं आया है। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीपी भैसोड़ा के अनुसार डॉक्टरों के साथ स्टाफ ने कोरोना में बेहतरीन काम किया है। इलाज के तय मानकों को कठोरता से पालन करना मरीजों के ठीक होने की मुख्य वजह है।

सबसे अच्छी बात है कि अस्पताल का कोई स्वास्थ्य कर्मी वायरस की चपेट में नहीं आया। यह बात साबित करती है कि मेडिकल कॉलेज काफी सख्ती के साथ गाइडलाइन का पालन कर रहा है। कोरोना के साथ बाकी मरीजों का इलाज भी अस्पताल में हो रहा है। फिर भी वायरस के संक्रमण को बेहतर मैनेजमेंट के जरिए रोकने में सफलता पाई है।

कोरोना वायरस की चपेट में आए राज्य के 50 फीसदी मरीज ठीक होकर घर लौट गए हैं। प्रदेश में गुरुवार शाम तक 47 कोरोना पॉजीटिव सामने आए थे। जिसमें से 23 मरीज स्वस्थ्य होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैँ। कुमाऊं में नैनीताल को छोड़कर बाकी जिले कोरोना मुक्त हो चुके हैं। कुमाऊं में बीते सात दिनों से कोई नया कोरोना मरीज नहीं सामने आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *