श्रावण मास के अंतिम सोमवार को मंदिरों में उमडे़ श्रद्धालु

देहरादून। सौरमास के अंतिम सोमवार पर शहर के शिवालयों में श्रद्धालु कम पहुंचे। पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर, टपकेश्वर महादेव मंदिर, पिपलेश्वर मंदिर, सिद्धेश्वर महादेव मंदिर, प्राचीन शिव मंदिर में सुबह पांच बजे से श्रद्धालु पहुंचे। इसके अलावा कमलेश्वर महादेव मंदिर, आदर्श मंदिर व श्याम सुंदर मंदिर में पंडितों ने सुबह विधिविधान पूजा की। प्राचीन शिव मंदिर के पंडित अरुण सती ने बताया कि संक्रांति से संक्रांति तक सौरमास रहता है।

इस बीच आने वाले प्रत्येक सोमवार को व्रती जलाभिषेक कर परिवार की खुशहाली की कामना करते हैं। इस बार कोरोना के चलते सावन पर कम श्रद्धालु मंदिर आए, अधिकांशों ने घर पर ही मिट्टी का शिवलिंग व प्रतिमा की पूजा कर मन्नत मांगी।

दून के मंदिर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के लिए सज गए हैं। मंदिरों को विभिन्न प्रकार की लाइटों और फूलों से सजाया गया है। हालांकि, कोरोना संक्रमण के चलते इस बार मंदिरों में कृष्ण जन्मोत्सव सादगी से मनाया जाएगा। मंदिर समितियों ने भी श्रद्धालुओं से घर पर रहकर ही कृष्ण जन्माष्टमी पर्व मनाने की अपील की है।

डीएल रोड स्थित चैतन्य गौड़ीय मठ के रक्षक त्रिदंडी भक्ति प्रसन्न महाराज ने बताया कि कृष्ण जन्माष्टमी के लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। 11 अगस्त को मठ परिसर में शाम को भजन संध्या, 12 अगस्त रात बारह बजे सीमित श्रद्धालुओं की मौजूदगी में वृंदावन धाम की तर्ज पर महाभिषेक होगा। इसके बाद नए वस्त्र अॢपत कर भगवान श्री कृष्ण को 36 व्यंजनों का भोग लगाने के साथ प्रसाद वितरण किया जाएगा। कोरोना के चलते इस बार शोभायात्रा स्थगित की गई है।

इस्कॉन के जाखन शाखा के जगदीश हरि प्रभु ने बताया कि कृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में राजपुर रोड स्थित साईं मंदिर के समीप 12 अगस्त कार्यक्रम होगा। जिसमें सीमित संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहेंगे।

बल्लूपुर चौक स्थित इस्कॉन मंदिर देहरादून के अध्यक्ष केशव भारती दास ने बताया कि कोरोना के चलते मंदिर परिसर में ही कृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा।

वहीं, सनातन धर्म सभा गीता भवन के प्रधान राकेश ओबरॉय ने बताया कि कृष्ण जन्मोत्सव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। 12 अगस्त को भजन आरती, अभिषेक के बाद भगवान श्रीकृष्ण को भोग लगाया जाएगा।

कोरोना के चलते श्रद्धालु मंदिर के बहार से ही भगवान कृष्ण के दर्शन कर पाएंगे। इस दौरान प्रसाद लेने और तिलक लगाने की अनुमति नहीं होगी। उन्होंने श्रद्धालुओं से घरों में रहकर कृष्ण जन्माष्टमी मनाने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *