जिलाधिकारी ने अधिकारियों कड़ी फटकार लगायी

पौड़ी: जिलाधिकारी डॉ0 आशीष चौहान ने कलक्ट्रेट सभागार में जिला योजना, राज्य सैक्टर, केन्द्र पोषित व बाह्य सहायतित योजनाओं की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने निर्माणा कार्यो से जुडे विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि निर्माण कार्यो में गुणवत्ता मानकों अनुरुप हो साथ ही कार्यो को निर्धारित समयसीमा के भीतर पूरा करने के निर्देश दिये हैं। बैठक में आदि-अधूरे आंकड़ों व आंकड़ों का अद्यतन न होने पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों कड़ी फटकार लगायी।

गुरुवार को आयोजित विकास कार्यो की समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान ने लोनिवि, पीएमजीएसवाई, पेयजल निगम, सिंचाई विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग विभागों के अधिकारियों को निर्माण कार्यो मंे गुणवत्ता के साथ तेजी लाने के निर्देश दिये हैं।

जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि भौतिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए निर्धारित समयसीमा के भीतर कार्य पूरा नहीं करने पर सम्बन्धित अधिकारी के प्रति सुसंगत कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। जिलाधिकारी ने विभाओं को निर्देशित किया कि जिस किसी विभाग की देनादरी शेष है उसका तत्काल भुगतान करना सुनिश्चित करें अन्यथा की दशा में सम्बन्धित अधिकारी की जवाबदेही तय ही जायेगी।

सड़क निर्माण कार्यो से जुड़े विभाओं लोनिवि, एनएच प्राधिकरण व पीएमजीएसवाई के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये कि भूमि अधिग्रहण से सम्बन्धित प्रतिकर का प्राथमिकता से भुगतान करते हुए लम्बित मामलों का निस्तारण करना सुनिश्चित करें। वही वन विभाग की अनुमति से सम्बन्धित प्रकरणों का अपसी समन्वय से निपटारा सुनिश्चित करने को कहा है।

विकास कार्यो से सम्बन्धित जानकारी अद्यतन न होने पर जिलाधिकारी ने अधिकारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि अगली बैठकों में रिर्पोट में तार्किक व अद्यतन आंकडे ही प्रर्दर्शित करें ताकि योजनाओं की वास्तविक स्थिति का संज्ञान लिया जा सके। जिलाधिकारी ने विकास कार्यो के शुभारम्भ से जुडी प्राथमिक क्रियाओं यथा कार्ययोजना, प्रस्ताव, टेण्डर इत्यादि औपचारिकताओं को तेजी से पूरा करने के निर्देश दिये हैं।

उन्होने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि प्रोजेक्ट अथवा विकास कार्यो के प्रस्ताव बनाते समय बहुविकल्पों व पक्षों का ध्यान रेखें कोशिश करें कि सभी कार्यो का बनायें। स्पष्ट किया कि ऐसे प्रस्ताव जिनकी वर्तमान और भविष्य में कोई उपयोगिता न दिखती हो स्वीकार्य नहीं होंगे। कहा कि ऐसे प्रस्ताव बनायें जिसके दूरगामी सकारात्मक परिणाम परिलक्षित होते हों।

जिलाधिकारी ने पीएमजीएसवाई के अधिकारियों को निर्देशित किया कि लोक निर्माण विभाग को हस्तांतरित होने वाली सड़कों को प्राथमिकता के आधार पर हस्तांतरित करना सुनिश्चित करें। कहा कि इस सम्बन्ध में यदि दोनो विभागों द्वारा संयुक्त निरीक्षण किया जाना है तो शीघ्र ही निरीक्षण करना सुनिश्चित करें।

बीस सूत्री कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी निर्देशित किया जिन विभाओं की प्रगति यथोच्चित नहीं है वे अपनी प्रगति में में सुधार करें।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अपूर्वा पाण्डे, डीएफओं मुकेश कुमार, परियोजना निदेशक डीआरडीए संजीव कुमार राय, डीडीओ पुष्पेन्द्र सिंह चौहान सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.