झमाझम बारिश, उमस भरी गर्मी की छुट्टी

नई दिल्ली: देशभर में मॉनसून ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। कई राज्यों में मॉनसून ने दस्तक दे दी है, तो कुछ राज्यों में मॉनसून एक-दो दिन में दस्तक देने वाला है। मौसम विभाग का अनुमान ठीक रहा तो मॉनसून के लिए दिल्ली वालों का इंतजार सोमवार को खत्म हो जाएगा। मौसम विभाग के अनुसार, मॉनसून सोमवार को दिल्ली में दस्तक दे सकता है।

रविवार को भी ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। तेज आंधी-बारिश के आसार हैं। सोमवार और मंगलवार के लिए येलो अलर्ट है। वहीं मौसम विभाग के मुताबिक, 20 राज्यों में अगले 4 दिन भारी बारिश होने का अनुमान है। इन राज्यों में मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, ओडिशा, उत्तराखंड, तेलंगाना, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, हिमाचल प्रदेश, कोंकण और गोवा, विदर्भ, तटीय आंध्र प्रदेश, तटीय कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु शामिल हैं।

मौसम विभाग ने शनिवार को कहा कि अगले दो दिन के भीतर मॉनसून के दिल्ली और मुंबई दोनों में एक ही समय पर पहुंचने का अनुमान है।आईएमडी के एक अधिकारी ने बताया कि धीमी शुरुआत के बाद मॉनसून तेजी से आगे बढ़ा है और महाराष्ट्र, पूरे कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, ओडिशा, पूर्वोत्तर भारत, पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों और हरियाणा के कुछ हिस्सों में दस्तक दे चुका है। आमतौर पर मॉनसून एक जून तक केरल, 11 जून तक मुंबई और 27 जून तक राष्ट्रीय राजधानी तक पहुंच जाता है।

येलो अलर्ट का मतलब है कि आपको सचेत रहना चाहिए, वहीं ऑरेंज अलर्ट का मतलब है कि ऐसे मौसम में घर से बाहर निकलना खतरनाक हो सकता है। मौसम विभाग ने दावा किया कि रविवार और सोमवार को दिल्ली-एनसीआर में होने वाली बारिश जून की पहली तेज बारिश हो सकती है। रविवार से ही यूपी, हरियाणा, पंजाब, ईस्ट राजस्थान में भी बारिश की उम्मीद है। हालांकि इससे पहले शनिवार को दिल्ली-एनसीआर में उमस से लोग परेशान रहे। दोपहर के बाद से बादल भी छाए रहे।

वैज्ञानिकों के अनुसार, उमस बढ़ने से बारिश जल्द होने की संभावना रहती है। मौसम एक्सपर्ट नवदीप दहिया के अनुसार, शनिवार को न्यूनतम तामपान 30.4 डिग्री रहा। यह सामान्य से दो डिग्री अधिक रहा। इससे सुबह से ही लोगों को भीषण गर्मी सहनी पड़ी। पीतमपुरा में न्यूनतम तापमान 33.1 डिग्री, नजफगढ़ में 32.2 डिग्री रहा। आम तौर पर प्री मॉनसून सीजन में इतना अधिक तापमान नहीं होता है।

मौसम विभाग के अनुसार, शनिवार को मॉनसून काफी तेजी से आगे बढ़ा। इस कारण यह उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के कुछ हिस्सों में पहुंच गया। अब इसका अगला पड़ाव ईस्ट राजस्थान, पंजाब, दिल्ली, चंडीगढ़ होगा। यहां यह सोमवार तक पहुंच सकता है।

गाल की खाड़ी से उठे मॉनसून के बादल सोमवार तक शहर में अपनी आमद दर्ज करवा सकते हैं। मौसम के विज्ञानियों के मुताबिक मॉनसून पूर्वी उत्तर प्रदेश पहुंच चुका है और सोमवार तक यह लखनऊ में छा सकता है। अगले 24 से 48 घंटे में लखनऊ समेत प्रदेश के ज्यादातर हिस्से में भारी बारिश की संभावना है।

मौसम विज्ञानी अतुल कुमार सिंह ने बताया कि प्रदेश में सोनभद्र, सिद्धार्थनगर और बिजनौर होते हुए मॉनसून उत्तराखंड़ और नेपाल तक दस्तक दे चुका है। अगले कुछ दिनों में लखनऊ समेत प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश रेकॉर्ड की जा सकती है।

देश के पूर्वी राज्यों बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड में 24 और 25 जून को बिजली कड़कने और 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चलने का अनुमान है। इसके अलावा 26 जून को इन तीनों राज्यों में बारिश होने की संभावना है। ओडिशा में 24 से 25 जून तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अगले तीन से चार दिन तक बारिश होगी।

देश के दक्षिणी राज्यों में अगले पांच दिन तेज बारिश होने की संभावना है। आंध्र प्रदेश में 24 जून तक बारिश हो सकती है। वहीं कर्नाटक और तेलंगाना में 26 जून तक बारिश की भविष्यवाणी की गई। महाराष्ट्र और गुजरात में 24 से 30 जून के बीच तेज बारिश हो सकती है। इसके अलावा कोंकण और गोवा में 23 जून से शुरू हुई बारिश 26 जून तक जारी रह सकती है।वहीं विदर्भ में 24 जून से शुरू होने वाली बारिश 26 जून तक चल सकती है।

मानसून 7 दिन की देरी से मध्य प्रदेश पहुंच चुका है। दो दिन में यह राजधानी भोपाल पहुंचेगा। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, इस बार मॉनसून असामान्य तरीके से आगे बढ़ रहा है। आम तौर पर ऐसा नहीं होता। नॉर्थ इंडिया के कई हिस्सों में इसने सेंट्रल इंडिया से पहले ही दस्तक दे दी है। फिलहाल, यह नहीं बताया गया है कि कितनी बारिश हो सकती है। बता दें, मध्यम बारिश में 156 से 644 एमएम, जबकि भारी बारिश में 645 से 1155 एमएम बारिश होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *