मुनस्यारी में पांच मकान जमींदोज, चोटियों पर हिमपात

पिथौरागढ़ : भारत नेपाल सीमा पर बादल फटने के बाद शनिवार की रात भी पिथौरागढ़ ज‍िले मेें भारी बारिश हुई। धारचुला और मुनस्यारी के लोगों की रात दहशत में कटी। मुनस्यारी के तल्ला जोहार के दाफा, बेडूमहर में भारी भू कटाव हुआ। दाफा में पांच मकान भूस्खलन की चपेट में आकर ध्वस्त हो गए। आपदा प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण करने सीएम धामी धारचूला पहुंच चुके हैं।

बेडूमहर में एक गौशाला ध्वस्त हो गई, हालांकि जानवरों को बचा लिया गया। 12 मकान खतरे में हैं। नदी, नाले उफान पर हैं। संपर्क मार्ग बंद हो चुके हैं। वहीं धारचूला के खोतिला व्यासनगर में राहत कार्य जारी है। ग्रामीण टेंटों में रखा गया है। काली नदी का जलस्तर अब भी बढ़ा हुआ है।

शनिवार की रात हिमालय की ऊंची चोटियों नंदा देवी, नंदाकोट, पंचाचूली, हँसलिंग, राजरम्भा, सिदमधार, छिपलाकेदार सहित अन्य चोटियों पर हिमपात हुआ है। पिथौरागढ़ जिले में लिपुलेख मार्ग सहित 26 मार्ग बंद हैं। ऐसे में स्थानीय लोगों को आवगमन में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

मुनस्यारी के दाफा में पांच मकान ध्वस्त हुए हैं। चंचल राम, दयान राम, चंचल राम द्वितीय, कुँवर राम, जगत राम के मकान भूस्खलन की चपेट में आकर ध्वस्त हो गए हैं। ग्रामीणों ने दूसरे गांव में पनाह ली है। जिसके चलते जनहानि होने से बच गई। धूनामानी गांव के सभी मार्ग बह गए हैं। गांव अलग थलग पड़ चुका है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी धारचूला के आपदा प्रभावित क्षेत्र खोतिला व्यासनगर का स्थलीय भ्रमण करने के लिए पिथौरागढ़ पहुंच चुके हैं। मुख्यमंत्री ने सांसद अजय टम्टा के साथ आपदा प्रभावित खोतिला व्यासनगर का हवाई सर्वे किया। सीएम धारचूला स्पोर्टस स्टेडियम में आपदा पीड़ितों से मिलेंगे। इसके बाद देहरादून वापस लौट जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.