कार्मिकों को प्रशिक्षित करने के लिए माॅड्यूल तैयार करने के निर्देश

रुद्रप्रयाग : श्री केदारनाथ धाम यात्रा को आगामी वर्ष में सुगम, सुदृढ़ एवं सफल बनाने के लिए जिला प्रशासन ने अभी से कमर कस ली है। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने केदार धाम की यात्रा व्यवस्थाओं से संबंधित आवश्यक तैयारियों हेतु सभी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि अगली वर्ष की यात्रा शुरू होने से पहले यात्रा मार्ग पर ड्यूटी देने वाले सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को प्रशिक्षित करना अनिवार्य होगा।

उन्होंने सभी विभाग के अधिकारियों को अपने अधीनस्थ कार्मिकों को प्रशिक्षित करने के लिए माॅड्यूल तैयार करने के निर्देश दिए। कहा कि किसी भी डाॅक्टर, पुलिस कर्मी, पीआरडी, सफाई कर्मचारी को ड्यूटी शुरू करने से पहले वहां की विपरीत परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कार्य करने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

जिला कार्यालय सभागार में आयोजित जनपद स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि इस बार की यात्रा में रिकाॅर्ड तीर्थ यात्री केदारनाथ धाम पहुंचे हैं। साथ ही आने वाली यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या में और अधिक इजाफे की संभावना है ऐसे में अभी से तैयारियों को पुख्ता करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि बीती यात्रा में कुछ खामियां रही हैं जिन्हें समय रहते दुरस्त किया जा सकता है ताकि यात्रा के दौरान अव्यवस्थाओं की गुंजाइश न रहे। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने सुलभ इंटरनेशनल को आगामी केदारनाथ यात्रा में बेहतर स्वच्छता व्यवस्था बनाने के लिए अभी से रोडमैप तैयार कर कार्य शुरू करने के निर्देश दिए। उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि पिछली यात्रा में स्वच्छता से जुड़ी कई शिकायतें लगातार मिली हैं। यात्रा मार्ग पर शौचालयों की खराब स्थिति भी यात्रियों के लिए श्रद्धालुओं के लिए परेशानी का कारण रही।

उन्होंने स्पष्ट किया कि आगामी यात्रा में ऐसी स्थिति न दोहराई जाए। सुलभ इंटरनेशनल अभी से शौचालय एवं सफाई व्यवस्था दुरस्त करने के लिए काम करना शुरू कर दे। साथ ही शौचालयों एवं यात्रा मार्ग पर सफाई कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने के निर्देश भी दिए।

उन्होंने जिला पंचायत को घोड़े-खच्चरों के संचालन हेतु पंजीकरण, घोड़े-खच्चरों के मालिकों/हाॅकरों को जारी किए जाने वाले पहचान पत्र समेत अन्य प्रक्रिया शुरू करने से पहले मुख्य विकास अधिकारी से सहमति लेने के निर्देश दिए। उन्होंने पशु चिकित्सा अधिकारी को यात्रा मार्ग पर चिकित्सकों एवं फार्मसिस्टों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए।

कहा कि उच्च स्तरीय अधिकारियों को पिछली यात्रा में काम कर चुके चिकित्सकों व फार्मसिस्टों की ही तैनाती करवाने के लिए पत्राचार करने के निर्देश दिए। पशु चिकित्सा अधिकारी डाॅ. आशीष रावत ने बैठक के दौरान जिलधिकारी से यात्रा के लिए अतिरिक्त स्टाफ एवं कर्मचारी देने की मांग की।

जिलाधिकारी ने पशु चिकित्सा अधिकारी, जिला पंचायत, जी मैक्स एवं संबंधित विभागों को यात्रा मार्ग पर घोड़ा-खच्चरों के संचालन के लिए दुरस्त व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए। कहा कि यात्रा मार्ग पर सीमित संख्या में घोड़े-खच्चर संचालित हों एवं यात्रियों को भी कोई परेशानी न हो इसके लिए व्यवहारिक एसओपी तैयार की जाए।

बैठक के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. एच.सी.एस. मार्तोलिया ने पिछली यात्रा के दौरान रही स्वास्थ्य व्यवस्थाओं से संबंधित समस्याओं का ब्यौरा जिलाधिकारी के समक्ष रखा। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि यात्रा मार्ग पर डाॅक्टरों की तैनाती शुरू होने से पूर्व उन्हें अनिवार्य रूप से प्रशिक्षित किया जाए।

उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को श्री केदारनाथ यात्रा मार्ग में समुचित स्वास्थ्य व्यवस्था, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी को यात्रा मार्ग में यातायात सुचारू ढंग संचालित हो इसके लिए उचित पार्किंग व्यवस्था किए जाने के लिए पुलिस एवं जिला पंचायत के साथ समन्वय स्थापित करते हुए आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिए परिवहन प्लान तैयार करने के निर्देश दिए।

साथ ही लोक निर्माण विभाग एवं राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जिन स्थानों में सड़क मरम्मत का कार्य किया जा रहा है उन कार्यों को तत्परता एवं गुणवत्ता के साथ शीघ्र पूर्ण कर लिया जाए उन्होंने यात्रा रूट के विभिन्न चैराहों में साईन बोर्ड लगाने के भी निर्देश दिए।

जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत व जिला पर्यटन अधिकारी को निर्देश दिए हैं कि यात्रा रूट पर तैयार किए जाने वाले अस्थायी शौचालय के लिए स्थान चिन्हित करने के लिए स्थानीय लोगों से संपर्क करते हुए कार्यवाही सुनिश्चित कर ली जाए। उन्होंने यात्रियों के आवासीय व्यवस्था हेतु महाप्रबंधक गढ़वाल मंडल विकास निगम को समय से सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए।

उन्होंने अधिशासी अभियंता जल-संस्थान को यात्रा मार्ग पर समुचित पानी की व्यवस्था, अधिशासी अभियंता विद्युत को यात्रा मार्ग पर पुनर्निर्माण कार्यों हेतु विद्युत की पूर्ण आपूर्ति सुनिश्चित करने, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को यात्रा मार्ग में संचालित होने वाले घोड़े-खच्चरों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं बीमा समय से सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने सभी विभागाध्यक्षों से यात्रा काल में तैनात रहने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के रहने हेतु आवासीय व्यवस्था आदि के लिए प्रस्ताव तैयार कर उपलब्ध कराने को भी कहा। इस दौरान जिलाधिकारी ने श्री केदारनाथ धाम यात्रा के सफल संचालन को लेकर सभी अधिकारी-कर्मचारियों की सराहना की। साथ ही आगामी यात्रा हेतु अभी से आवश्यक तैयारियां करने को कहा।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नरेश कुमार, अपर जिलाधिकारी दीपेंद्र सिंह नेगी, अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी योगेंद्र सिंह, पुलिस उपाधीक्षक प्रबोध कुमार घिल्डियाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. एच.सी.एस. मार्तोलिया, जिला विकास अधिकारी मनविंदर कौर, उप जिलाधिकारी ऊखीमठ जितेंद्र वर्मा, जखोली परमानंद राम, अधिशासी अभियंता डीडीएमए प्रवीण कर्णवाल, पर्यटन अधिकारी सुशील नौटियाल, अधिशासी अभियंता लोनिवि जे.एस. रावत, जल संस्थान संजय सिंह, सहायक परियोजना अधिकारी रमेश चंद्र, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार सहित विभिन्न विभागीय अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.