रविवार तक लगातार हो सकती है बारिश

नई दिल्ली। उत्तर पश्चिम व पश्चिमी राज्यों में भारी बारिश की संभावना है जो रविवार तक जारी रहेगा। ये राज्य हैं गुजरात, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार पूर्व-मध्य और बंगाल की खाड़ी से लगने वाले पूर्वोत्तर क्षेत्र में 25 सितंबर तक चक्रवाती प्रवाह बनने की संभावना है। यह प्रवाह 48 घंटों के दौरान पश्चिमी-उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र की ओर बढ़ेगा। इसका प्रभाव ओडिशा में 26 सितंबर को देखने को मिलेगा और यहां बारिश की संभावना है।

मध्य प्रदेश में तेज बारिश के साथ आकाशीय बिजली गिरने से अलग-अलग स्थानों पर पांच लोगों की मौत हेा गई, एक शख्स बुरी तरह झुलस गया है। ये हादसे मुरैना और बैतूल में हुए। मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार को करनाल, बरवाला, जिंद में बारिश हो सकती है। वहीं बंगाल की खाड़ी में डिप्रेशन बनने के कारण पश्चिम बंगाल व इसके आस-पास के इलाकों में बारिश की संभावना है।

बीते तीन दिनों से कोलकाता की सड़कों पर घुटनों तक पानी भरा है। बुधवार को मौसम विभाग ने पूर्वानुमान में बताया कि यहां और बारिश होने की संभावना है क्योंकि बंगाल की खाड़ी में दो डिप्रेशन बन रहा है। मौसम विभाग ने बताया कि इसके कारण न केवल कोलकाता बल्कि दक्षिण बंगाल, नार्थ व साउथ 24 परगना, हावड़ा और हुगली में भी बारिश की आशंका है। इसके अलावा झारखंड पर भी डिप्रेशन का असर दिखेगा। साथ ही इसका प्रभाव ओडिशा व छत्तीसगढ़ पर भी होगा।

नतीजतन कोलकाता व आसपास के इलाकों में बुधवार की बारिश के बाद मौसम में सुधार दिखेगा। अलीपुर मौसम विभाग ने सप्ताहांत में बंगाल की खाड़ी में दो चक्रवात बनने की आशंका जताई है। दो चक्रवात बंगाल-ओडिशा तट की ओर बढ़ रहे हैं। एक के 26 सितंबर और दूसरे के 28 सितंबर को तटीय इलाकों से टकराने की आशंका जताई जा रही है। इसके अलावा, सोमवार को मध्य बंगाल की खाड़ी में एक और चक्रवात भी बन सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उदय दिनमान’ एक वैचारिक आंदोलन भी है। इस आंदोलन का सरोकार आर्थिकी, राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास व विकास से है। अकेले उत्तराखंड की बात करें तो यह क्षेत्र सदियों से न केवल धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है, बल्कि यह क्षेत्र मानव सभ्यता-संस्कृति का उद्गम स्थल भी समझा जाता रहा है। आधुनिक समय में विकास की अवधारणा के जन्म लेने के साथ हिमालयी समाज-संस्कृति को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ये चुनौतियां हमारी संस्कृति पर निरंतर प्रहार कर इसे गहरा आघात पहुॅचाने में तुली हुई है। हालांकि, सामाजिक, शारीरिक, आर्थिक आदि कष्टों के बावजूद यह संस्कृति अपने ताने-बाने से छिन्न-भिन्न नहीं हो सकी है। मगर निरंतर जारी प्रहारों से एकबारगी चितिंत होना स्वाभाविक है। ‘उदय दिनमान’ का प्रयास है कि राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास, विकास व आर्थिकी पर निरंतर हो रहे आघातों से जनमानस को सजग रखने का प्रयास किया जाए। यह कहकर हम कोई बड़ा दंभ नहीं भर रहे हैं। यह हमारा मात्र एक लघु प्रयास भर है। हमारी अपेक्षा व आकांक्षा है कि हमारे इस प्रयास में आपकी भागीदारी ही नहीं सुनिश्चित हो, बल्कि आपके विस्तृत अनुभवों, विचारों, सुझावों व गतिविधियों का लाभ ‘उदय दिनमान’ के द्वारा व्यापक जनमानस तक पहुंचे। उक्त क्रम में ‘उदय दिनमान’ के प्रयासों को बल प्रदान करने के निमित आप अपने अनुभवों, सुझावों व विचारों को लेख अथवा यात्रावृत्त, संस्मरण, रिर्पोट, कथा-कहानी, कविता, रेखाचित्र, फोटो आदि के रूप में प्रेषित करने का कष्ट करें। संपर्क करें। https://www.udaydinmaan.com/ संतोष बेंजवाल संपादक कन्हैया विहार, निकट कारगी चैक, देहरादून (उत्तराखंड) udaydinmaan@gmail.com Phone:0135-3576257 Mob:+91.9897094986 Email: udaydinmaan@gmail.com