राष्ट्रीय पक्षी मोर: राष्ट्रीय महत्व के साथ धार्मिक महत्व भी

उदय दिनमान डेस्कः मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है। यह पक्षी जितना राष्ट्रीय महत्व रखता है उतना ही धार्मिक महत्व भी, हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान मुरुगन या कहें कार्तिकेय का वाहन मोर है।एक मान्यता अनुसार अरब में रह रहे यजीदी समुदाय (कुर्द धर्म) के लोग हिन्दू ही हैं और उनके देवता कार्तिकेय है जो मयूर पर सवार हैं। भारत में दक्षिण भारत में कार्तिकेय की अधिक पूजा होती है। कार्तिकेय को स्कंद भी कहा जाता है, जो शिव के बड़े पुत्र हैं।

कार्तिकेय का वाहन मयूर है। एक कथा के अनुसार कार्तिकेय को यह वाहन भगवान विष्णु ने उनकी सादक क्षमता को देखकर ही भेंट किया था। मयूर का मान चंचल होता है। चंचल मन को साधना बड़ा ही मुश्‍किल होता है। कार्तिकेय ने अपने मन को साथ रखा था। वहीं एक अन्य कथा में इसे दंभ के नाशक के तौर पर कार्तिकेय के साथ बताया गया है।संस्कृत भाषा में लिखे गए ‘स्कंद पुराण’ के तमिल संस्करण ‘कांडा पुराणम’ में उल्लेख है कि देवासुर संग्राम में भगवान शिव के पुत्र मुरुगन (कार्तिकेय) ने दानव तारक और उसके दो भाइयों सिंहामुखम एवं सुरापदम्न को पराजित किया था।

अपनी पराजय पर सिंहामुखम माफी मांगी तो मुरुगन ने उसे एक शेर में बदल दिया और अपना माता दुर्गा के वाहन के रूप में सेवा करने का आदेश दिया।
दूसरी ओर मुरुगन से लड़ते हुए सपापदम्न (सुरपदम) एक पहाड़ का रूप ले लेता है। मुरुगन अपने भाले से पहाड़ को दो हिस्सों में तोड़ देते हैं। पहाड़ का एक हिस्सा मोर बन जाता है जो मुरुगन का वाहन बनता है जबकि दूसरा हिस्सा मुर्गा बन जाता है जो कि उनके झंडे पर मुरुगन का प्रतीक बन जाता है। इस प्रकार, यह पौराणिक कथा बताती है कि मां दुर्गा और उनके बेटे मुरुगन के वाहन वास्तव में दानव हैं जिन पर कब्जा कर लिया गया है। इस तरह वो ईश्वर से माफी मिलने के बाद उनके सेवक बन गए।

पंखो को फैलाए हुए मोर को कार्तिकेय (मुरुगन) का वाहन माना जाता है। प्रख्यात चित्रकार रामप्रकाश जांगु सिदाणी फतेहसागर लोहावट वन विभाग राजस्थान सरकार मोर अथवा मयूर एक पक्षी है जिसका मूलस्थान दक्षिणी और दक्षिणपूर्वी एशिया में है। ये ज़्यादातर खुले वनों में वन्यपक्षी की तरह रहते हैं। नीला मोर भारत और श्रीलंका का राष्ट्रीय पक्षी है। नर की एक ख़ूबसूरत और रंग-बिरंगी फरों से बनी पूँछ होती है, जिसे वो खोलकर प्रणय निवेदन के लिए नाचता है, विशेष रूप से बसन्त और बारिश के मौसम में। मोर की मादा मोरनी कहलाती है। जावाई मोर हरे रंग का होता है।

बरसात के मौसम में काली घटा छाने पर जब यह पक्षी पंख फैला कर नाचता है तो ऐसा लगता मानो इसने हीरों से जरी शाही पोशाक पहनी हुई हो; इसीलिए मोर को पक्षियों का राजा कहा जाता है। पक्षियों का राजा होने के कारण ही प्रकृति ने इसके सिर पर ताज जैसी कलंगी लगायी है। मोर के अद्भुत सौंदर्य के कारण ही भारत सरकार ने 26 जनवरी,1963 को इसे राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया। हमारे पड़ोसी देश म्यांमार का राष्ट्रीय पक्षी भी मोर ही है। ‘फैसियानिडाई’ परिवार के सदस्य मोर का वैज्ञानिक नाम ‘पावो क्रिस्टेटस’ है। अंग्रेजी भाषा में इसे ‘ब्ल्यू पीफॉउल’ अथवा ‘पीकॉक’ कहते हैं। संस्कृत भाषा में यह मयूर के नाम से जाना जाता है। मोर भारत तथा श्रीलंका में बहुतायत में पाया जाता है। मोर मूलतः वन्य पक्षी है, लेकिन भोजन की तलाश इसे कई बार मानव आबादी तक ले आती है।

मोर प्रारम्भ से ही मनुष्य के आकर्षण का केन्द्र रहा है। अनेक धार्मिक कथाओं में मोर को उच्च कोटी का दर्जा दिया गया है। हिन्दू धर्म में मोर को मार कर खाना महापाप समझा जाता है। भगवान् श्रीकृष्ण के मुकुट में लगा मोर का पंख इस पक्षी के महत्त्व को दर्शाता है। महाकवि कालिदास ने महाकाव्य ‘मेघदूत’ में मोर को राष्ट्रीय पक्षी से भी अधिक ऊँचा स्थान दिया है। राजा-महाराजाओं को भी मोर बहुत पसंद रहा है। प्रसिद्ध सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य के राज्य में जो सिक्के चलते थे, उनके एक तरफ मोर बना होता था। मुगल बादशाह शाहजहाँ जिस तख्त पर बैठते थे, उसकी संरचना मोर जैसी थी। दो मोरों के मध्य बादशाह की गद्दी थी तथा पीछे पंख फैलाये मोर। हीरों-पन्नों से जरे इस तख्त का नाम तख्त-ए-ताऊस’ रखा गया। अरबी भाषा में मोर को ‘ताऊस’ कहते हैं।

नर मोर की लम्बाई लगभग २१५ सेंटीमीटर तथा ऊँचाई लगभग ५० सेंटीमीटर होती है। मादा मोर की लम्बाई लगभग ९५ सेंटीमीटर ही होती है। नर और मादा मोर की पहचान करना बहुत आसान है। नर के सिर पर बड़ी कलंगी तथा मादा के सिर पर छोटी कलंगी होती है। नर मोर की छोटी-सी पूँछ पर लम्बे व सजावटी पंखों का एक गुच्छा होता है। मोर के इन पंखों की संख्या १५० के लगभग होती है। मादा पक्षी के ये सजावटी पंख नहीं होते। वर्षा ऋतु में मोर जब पूरी मस्ती में नाचता है तो उसके कुछ पंख टूट जाते हैं। वैसे भी वर्ष में एक बार अगस्त के महीने में मोर के सभी पंख झड़ जाते हैं। ग्रीष्म-काल के आने से पहले ये पंख फिर से निकल आते हैं। मुख्यतः मोर नीले रंग में पाया जाता है, परन्तु यह सफेद, हरे, व जामुनी रंग का भी होता है। इसकी उम्र २५ से ३० वर्ष तक होती है। मोरनी घोंसला नहीं बनाती, यह जमीन पर ही सुरक्षित स्थान पर अंडे देती है। मोर के दौड़ने की रफ्तार 16 किलोमीटर/घंटे की होती है।

मोर अपने पंख फैलाकर मोरनी को आकर्षित करनेके लिए नचता हुआ

आपको मालूम होगा की मोर का विस्तृत और सुंदर संभोग अनुष्ठान होता है।नर मोर को मोर और मादि को मोरनी कहते हैं। भारतीय मोरकी प्रजाति तीन साल में यौन रूप से परिपक्व हो जाती है, हालांकि मोर 2 साल की उम्र में प्रजनन कर सकते हैं।सेक्स के दौरान, नर मोरनी के ऊपर बैठकर अपनी पूंछ को उसके साथ संरेखित करता है, जो बदले में, यौन अंगों को संरेखित करता है, जिसे क्लोआका कहा जाता है। मोर और मोरनी दोनों में क्लोआका हैं। मयूर के शुक्राणु को तबमोरनी में स्थानांतरित कर दिया जाता है, जहां यह पेशी की ऐंठन के माध्यम से अंडे को निषेचित करने के लिए गर्भाशय तक जाते है।

मोरनी ३-५ भूरे अंडाकार अंडे देती है , लेकिन कभी कभी १२ तक अंडे देती हैं। अंडे को हर दूसरे दिन एक बार रखा जाता है। उनके चमकदार गोले में गहरे, छोटे छिद्र होते हैं जो इसे नम रखने के लिए पानी में छोड़ देते हैं। ऊष्मायन अवधि२८ दिनों तक रहता है।अंडे देनेकेलीए घोंसला सूखी छड़ियों और पत्तियों से बना होता है, जो जमीन पर, झाड़ियों के नीचे स्थित होता है।केवल मादाएं मोर याने मोरनी अंडों को ऊष्मायन करके बच्चे पैदा करती हैं।

जब अंडे से बच्चे मोर बाहर आते हैं तो उन्हें पंख होते है और लगभग एक सप्ताह में उड़ सकते हैं, और केवल कुछ अतिरिक्त हफ्तों के लिए अपनी मां पर भरोसा करते हैं। हालांकि बच्चे काफी लचीला होते हैं, उन्हें जीवित रहने के लिए अपेक्षाकृत गर्म तापमान की आवश्यकता होती है और ठंडी जलवायु में मर सकते हैं।नर और मादा एक जैसे दिखते हैं जब तक नर में चमकीले पंख विकसित नहीं कर लेते। इसके अलावा,नर के पास हल्के भूरे रंग के बाहरी प्राथमिक पंख होते हैं और मादिके भूरे रंग के होते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *