एसडीएम के लापता होने की खबर !

चम्पावत : एसडीएम सदर अनिल चन्याल के अचानक गायब होने से न केवल प्रशासन के अधिकारी पशोपेश में हैं, बल्कि आम जनता भी काफी बेचैन और व्यथित है। लोग उनके जल्दी वापस लौटने की कामना कर रहे हैं। अपने मृदु व्यवहार और कार्य के प्रति निष्ठा के चलते वह हमेश उच्च अधिकारियों के भी चहेते रहे हैं।

अनिल चन्याल ने लगभग एक साल पहले चम्पावत के एसडीएम सदर का पद संभाला था। इससे पहले वे जसपुर के नादेही चीनी मिल के एमडी थे। जसपुर स्थानांतरण होने से पहले वे टनकपुर के एसडीएम भी रह चुके हैं। चन्याल पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट के रहने वाले हैं। उनकी दो बेटियां और एक बेटा है। एक बेटी और बेटा अपनी मां सीमा चन्याल के साथ हल्द्वानी में रह रहे हैं, जबकि बड़ी बेटी राजस्थान के जयपुर में पढ़ाई कर रही है।

सोमवार को जैसे ही उनके गायब होने की सूचना मिली डीएम के निर्देश पर लोहाघाट की एसडीएम रिंकू बिष्ट ने हल्द्वानी में रह रही उनकी पत्नी सीमा से फोन कर उनके बारे में जानकारी ली। पत्नी ने उनके हल्द्वानी में न होने की जानकारी दी। जिसके बाद एसडीएम रिंकू बिष्ट ने अस्कोट में रह रही उनकी बहन से फोन पर बात की। बहन ने भी अस्कोट में न होने की जानकारी दी।

एसडीएम का निजी फोन बंद होने से शंका और आशंका काफी बढ़ गई है। जिलाधिकारी सहित सभी अधिकारी एवं जिले की जनता उनके स्वस्थ्य होने की कामना कर रही है। एडीएम हेमंत कुमार वर्मा ने बताया कि अनिल चन्याल काफी मृदु भाषी और मिलनसार थे।

जनता की समस्या से संबंधित हर कार्य तीव्रता से करना उनकी फितरत थी। अपने इसी कार्य और व्यवहार के कारण वे जनप्रिय अधिकारी के रूप में जाने जाते थे। हर कोई उनके स्वस्थ्य होने और शीघ्र डयूटी में लौटने की प्रतीक्षा कर रहा है।

एसडीएम रविवार की शाम से ही अपने घर से लापता हैं। बताया जा रहा है कि उन्होंने शनिवार की शाम को अपने कुक रमेश राम को छुट्टी में घर भेज दिया था। शनिवार की सुबह उन्होंने अपने कार्यालय में पंत जयंती मनाई थी। रविवार की दोपहर बाद उन्होंने अपने गनर मोहन भट्ट को भी घर भेज दिया। एसडीएम सदर के लापता होने की जानकारी सोमवार की सुबह हुई।

चालक और गनर वाहन लेकर पूल्ड आवास स्थित उनके कमरे में पहुंचे तो वे वहां नहीं मिले। दोपहर तक उनका कहीं सुराग नहीं लगा तो कार्यालय में तैनात होम गार्ड ने कोतवाली में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी है। घटना की सूचना के बाद छुट्टी पर गए एसपी देवेंद्र पींचा भी लौट आए हैं। एसपी मंगलवार को अपने कार्यालय पहुंचेंगे।

कोतवाल योगेश उपाध्याय ने बताया की पीआरडी जवान की तहरीर पर गुमशुदगी दर्ज करने के बाद उनकी खोजबीन शुरू कर दी है। आस-पास के जंगलों में कांबिंग की जा रही है। एसडीएम का सरकारी फोन कमरे में ही पड़ा हुआ मिला है। जबकि निजी फोन बंद है। जिसकी अंतिम लोकेशन चम्पावत में ही मिली है।

पुलिस ने उनके कुक, गनर और विभाग के कर्मचारियों को पूछताछ के लिए बुलाया है। एडीएम हेमंत कुमार वर्मा ने बताया कि एसडीएम के कमरे से एक पत्र मिला है जिसमें उन्होंने सरकारी फोन को विभाग में जमा करने की बात लिखी है। बताया कि एसडीएम चन्याल को 16 सितंबर से अवकाश पर जाना था। अभी लोहाघाट और टनकपुर के एसडीएम के अवकाश में थे जो इस घटना के बाद वापस लौट आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.