भूकंप के तेज झटकों से दहला निकारागुवा, 6.5 मापी गई तीव्रता

मानागुआ। आस्ट्रेलिया के मेलबर्न में भूकंप के तेज झटकों के बाद अब निकारागुवा में अफरातफरी का आलम है। समाचार एजेंसी रायटर के मुताबिक निकारागुआ के तट के पास बुधवार को 6.5 तीव्रता का जोरदार भूकंप आया। यूरोपियन मेडिटेरेनियन सीस्मोलॉजिकल सेंटर (European Mediterranean Seismological Centre, EMSC) ने बताया कि भूकंप का केंद्र 40 किलोमीटर की गहराई में था। फिलहाल सुनामी की चेतावनी नहीं जारी की गई है।

इससे पहले आस्ट्रेलिया के मेलबर्न में बुधवार को भूकंप के तगड़े झटके महसूस किए गए। रिक्‍टर स्‍केल पर इसकी तीव्रता 5.8 मापी गई। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक भूकंप का केंद्र आस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे अधिक आबादी वाले शहर के उत्तर-पूर्व में मैन्सफील्ड शहर के पास 10 किलोमीटर की गहराई में था। आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्‍काट मारिसन ने बताया कि किसी के गंभीर रूप से घायल होने की कोई खबर नहीं है। हालांकि स्‍थानीय मीडिया ने दक्षिण यारा के भीतरी उपनगर में चैपल स्ट्रीट पर हुए नुकसान की कुछ तस्वीरें दिखाईं।

हाल ही में चीन में भी भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए थे। सिचुआन प्रांत के लुझोउ शहर के लक्सियन काउंटी में सुबह 4.33 बजे आए इस भूकंप की तीव्रता 6.0 मापी गई थी। इसमें तीन लोगों की मौत हो गई थी जबकि 60 अन्‍य घायल हो गए थे। चीन के भूकंप नेटवर्क सेंटर ने बताया था कि इसका असर 10 किलोमीटर क्षेत्र में था। भूकंप से 6,900 से अधिक संख्या में लोग विस्थापित हुए थे। इनको दूसरी जगह ले जाया गया था जबकि 10,000 को अस्थायी शेल्टरों में रखा गया था। भूकंप में 730 घर ध्‍वस्‍त जबकि 7,290 क्षतिग्रस्त हो गए थे।

पिछले हफ्ते ही जापान के इबाराकी में भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए थे। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6.2 मापी गई थी। इसी महीने दक्षिण-पश्चिमी मेक्सिको में अकापुल्को के समुद्र तट के पास एक शक्तिशाली भूकंप आया था जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि कई अन्‍य जख्‍मी हो गए थे। रिक्‍टर स्‍केल पर भूकंप की तीव्रता 7.0 नापी गई थी। बताते हैं कि भूकंप का झटका इतना तेज था कि ऊंची इमारतें देखते ही देखते मलबों में तब्‍दील हो गई थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उदय दिनमान’ एक वैचारिक आंदोलन भी है। इस आंदोलन का सरोकार आर्थिकी, राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास व विकास से है। अकेले उत्तराखंड की बात करें तो यह क्षेत्र सदियों से न केवल धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है, बल्कि यह क्षेत्र मानव सभ्यता-संस्कृति का उद्गम स्थल भी समझा जाता रहा है। आधुनिक समय में विकास की अवधारणा के जन्म लेने के साथ हिमालयी समाज-संस्कृति को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ये चुनौतियां हमारी संस्कृति पर निरंतर प्रहार कर इसे गहरा आघात पहुॅचाने में तुली हुई है। हालांकि, सामाजिक, शारीरिक, आर्थिक आदि कष्टों के बावजूद यह संस्कृति अपने ताने-बाने से छिन्न-भिन्न नहीं हो सकी है। मगर निरंतर जारी प्रहारों से एकबारगी चितिंत होना स्वाभाविक है। ‘उदय दिनमान’ का प्रयास है कि राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास, विकास व आर्थिकी पर निरंतर हो रहे आघातों से जनमानस को सजग रखने का प्रयास किया जाए। यह कहकर हम कोई बड़ा दंभ नहीं भर रहे हैं। यह हमारा मात्र एक लघु प्रयास भर है। हमारी अपेक्षा व आकांक्षा है कि हमारे इस प्रयास में आपकी भागीदारी ही नहीं सुनिश्चित हो, बल्कि आपके विस्तृत अनुभवों, विचारों, सुझावों व गतिविधियों का लाभ ‘उदय दिनमान’ के द्वारा व्यापक जनमानस तक पहुंचे। उक्त क्रम में ‘उदय दिनमान’ के प्रयासों को बल प्रदान करने के निमित आप अपने अनुभवों, सुझावों व विचारों को लेख अथवा यात्रावृत्त, संस्मरण, रिर्पोट, कथा-कहानी, कविता, रेखाचित्र, फोटो आदि के रूप में प्रेषित करने का कष्ट करें। संपर्क करें। https://www.udaydinmaan.com/ संतोष बेंजवाल संपादक कन्हैया विहार, निकट कारगी चैक, देहरादून (उत्तराखंड) udaydinmaan@gmail.com Phone:0135-3576257 Mob:+91.9897094986 Email: udaydinmaan@gmail.com