दर्दनाकः आठ साल की बच्ची को मगरमच्छ ने निगला

हरिद्वार। हरिद्वार जिले के पूजा के लिए बाणगंगा में फूल तोड़ने गई आठ साल की बच्ची को मगरमच्छ ने निगल लिया। जब तक बच्ची के स्वजन और ग्रामीण मौके पर पहुंचते, मगरमच्छ झाड़ियों में चला गया। रायसी क्षेत्र में मगरमच्छ के किसी को निगलने की यह पहली घटना है। इस घटना के बाद से ही ग्रामीणों में रोष है।

दरअसल, लक्सर के रायसी क्षेत्र के कुंडी नेतवाला गांव निवासी जयेंद्र के बाणगंगा के पास खेत हैं। बाणगंगा में पानी कम होने के कारण यहां झाड़ियां उगी हुई हैं। शुक्रवार को जयेंद्र परिवार के साथ खेत में काम करने गया था। उनकी आठ साल की बेटी राधिका भी उनके साथ थी।

जयेंद्र ने बताया कि सभी लोग खेत में काम कर रहे थे, इस बीच राधिका एक बच्ची के साथ बाणगंगा में उगे फूल तोड़ने चली गई।

राधिका झाड़ियों में फूल तोड़ रही थी कि तभी अचानक एक मगरमच्छ वहां पहुंच गया और उसने बच्ची को जकड़ लिया। जब तक दूसरी बच्ची शोर मचाती मगरमच्छ ने राधिका को निगल लिया। बच्ची के शोर मचाने पर आसपास के खेत में काम कर रहे ग्रामीण और स्वजन मौके पर पहुंचे।

बच्ची ने उन्हें घटना के बारे में बताया। मगरमच्छ की झाड़ियों में तलाश की गई, लेकिन वह नहीं मिला। ग्रामीणों ने वन क्षेत्राधिकारी मयंक अग्रवाल और रायसी चौकी प्रभारी ब्रजपाल सिंह को घटना की सूचना दी।

हरिद्वार जिले में अक्सर मगरमच्छ नदी से निकल आबादी में देखे जाते रहे हैं। इससे पहले छह सितंबर को रुड़की के लंढौरा स्‍थ‍ित गोपालपुर गांव के तालाब में मगरमच्छ देखा गया। दरअसल, लंढौरा क्षेत्र में गोपालपुर गांव में सुबह कुछ ग्रामीण गांव के पास स्थित तालाब की तरफ गए थे।

इसी दौरान ग्रामीणों की नजर तालाब किनारे घूम रहे मगरमच्छ पर पड़ी तो वह दंग रह गए। मगरमच्छ को देख ग्रामीण वहां से भाग खड़े हुए। मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम ने मगरमच्छ को पकड़कर काबू किया।

हरिद्वार जिले के रुड़की में अगस्त के महीने कलियर थाना क्षेत्र के मुकरपुर-कलियर रोड पर रात को एक मगरमच्छ निकल आया। मगरमच्छ गांव की सड़क और पेट्रोल पंप तक बेखौफ घूमता रहा। इससे लोगों के होश फाख्ता हो गए।

आनन-फानन लोगों ने इसकी जानकारी वन विभाग की टीम को दी। वहीं, खौफजदा ग्रामीणों ने गांव के रास्ते बंद कर दिए। इसके बाद वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर मगरमच्छ को पकड़ लिया और बाद में उसे ले जाकर गंगा में छोड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *