दहशत: अचानक आसमान से गिरा आग का विशाल गोला

पेइचिंग: दक्षिणी चीन में आग का एक विशाल गोला आकाश में नजर आया और देखते ही देखते बहुत तेजी से जमीन पर गिर गया। आग के इस विशाल गोले के आकाश से गिरने से स्‍थानीय लोग दहशत में आ गए। हालांकि तत्‍काल यह अभी स्‍पष्‍ट नहीं हो सका है कि आसमान से आग के गोले के गिरने की वजह क्‍या थी लेकिन स्‍थानीय मीडिया ने संभावना जताई है कि कोई चमकता उल्‍का पिंड गिरा है।

आग के इस विशाल गोले के गिरने से कोई हताहत नहीं हुआ है। डेलीमेल की रिपोर्ट के मुताबिक चीन के सोशल मीडिया पर इस आग के गोले के गिरने के कई वीडियो वायरल हो गए हैं। यह घटना चीन के किंघाई प्रांत के नांगकिआन की है। यह घटना बुधवार सुबह करीब सात बजे हुई। स्‍थानीय लोगों ने बताया कि उन्‍हें तेज आवाज भी सुनाई दी। चीनी सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में नजर आ रहा है कि आग का यह गोला अंधेरे को चीरता हुआ धरती पर गिरा।
‘विशाल उल्‍का की तरह से नजर आ रहा था’

एक स्‍थानीय नागरिक दान बा ने कहा कि उसने आग के गोले को अपने बच्‍चे को स्‍कूल ले जाते समय देखा। उन्‍होंने कहा कि आग का यह रहस्‍यमय गोला पहले छोटा था लेकिन तीन मिनट बाद ही यह बहुत बड़ा और चमकदार हो गया। चीन के साइंस वेबसाइट गुओकर के मुख्‍य लेखक यू जून ने पेइचिंग न्‍यूज से कहा कि आग का यह एक विशाल उल्‍का की तरह से नजर आ रहा था जो काफी चमकदार था।

उधर, चीन के भूकंप नेटवर्क सेंटर ने कहा है कि उसने इस घटना को रेकॉर्ड किया है। उसने सोशल मीडिया पर बयान जारी करके कहा कि यह संदिग्‍ध उल्‍का पिंड नांगकिआन काउंटी और यूसू काउंटी के बीच में सुबह करीब 7.25 बजे गिरा है। नानशिआंग काउंटी की सरकार ने कहा कि उसे इस मामले के बारे में पता चला है लेकिन उसे पूरी जानकारी नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उदय दिनमान’ एक वैचारिक आंदोलन भी है। इस आंदोलन का सरोकार आर्थिकी, राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास व विकास से है। अकेले उत्तराखंड की बात करें तो यह क्षेत्र सदियों से न केवल धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है, बल्कि यह क्षेत्र मानव सभ्यता-संस्कृति का उद्गम स्थल भी समझा जाता रहा है। आधुनिक समय में विकास की अवधारणा के जन्म लेने के साथ हिमालयी समाज-संस्कृति को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ये चुनौतियां हमारी संस्कृति पर निरंतर प्रहार कर इसे गहरा आघात पहुॅचाने में तुली हुई है। हालांकि, सामाजिक, शारीरिक, आर्थिक आदि कष्टों के बावजूद यह संस्कृति अपने ताने-बाने से छिन्न-भिन्न नहीं हो सकी है। मगर निरंतर जारी प्रहारों से एकबारगी चितिंत होना स्वाभाविक है। ‘उदय दिनमान’ का प्रयास है कि राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास, विकास व आर्थिकी पर निरंतर हो रहे आघातों से जनमानस को सजग रखने का प्रयास किया जाए। यह कहकर हम कोई बड़ा दंभ नहीं भर रहे हैं। यह हमारा मात्र एक लघु प्रयास भर है। हमारी अपेक्षा व आकांक्षा है कि हमारे इस प्रयास में आपकी भागीदारी ही नहीं सुनिश्चित हो, बल्कि आपके विस्तृत अनुभवों, विचारों, सुझावों व गतिविधियों का लाभ ‘उदय दिनमान’ के द्वारा व्यापक जनमानस तक पहुंचे। उक्त क्रम में ‘उदय दिनमान’ के प्रयासों को बल प्रदान करने के निमित आप अपने अनुभवों, सुझावों व विचारों को लेख अथवा यात्रावृत्त, संस्मरण, रिर्पोट, कथा-कहानी, कविता, रेखाचित्र, फोटो आदि के रूप में प्रेषित करने का कष्ट करें। संपर्क करें। https://www.udaydinmaan.com/ संतोष बेंजवाल संपादक कन्हैया विहार, निकट कारगी चैक, देहरादून (उत्तराखंड) udaydinmaan@gmail.com Phone:0135-3576257 Mob:+91.9897094986 Email: udaydinmaan@gmail.com