नौका तथा ट्रैक्टर से दफ्तर जा रहे हैं लोग

बेंगलुरु :बेंगलुरु में मूसालाधार बारिश से जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त हो गया है. यहां कई इलाकों में पानी भर गया और राहत कार्यों के लिए नौकाओं तथा ट्रैक्टरों को लगाना पड़ा, वहीं लोग कथित कुप्रबंधन से नाराज भी नजर आ रहे हैं.

शहर में अनेक झील, तालाब और नाले लबालब भरे हैं और निचले इलाकों में घरों में पानी भर गया है. बाढ़ग्रस्त सड़कों पर गुजरने में और अपने कार्यस्‍थल तक पहुंचने में बेंगलुरु वासियों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इसकी कुछ तस्‍वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर दिख रहीं हैं.

बताया जा रहा है कि आइटी सिटी बेंगलुरु में रविवार रात से मूसलाधार बारिश होती रही. सुबह जब लोगों की नींद खुली तो शहर के ज्यादातर हिस्से तालाब में तब्दील हो चुके थे. हालात को देखते हुए ज्यादातर आइटी कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम की घोषणा कर दी.

निचले इलाकों सरजापुर रोड के क्षेत्र में जलभराव की स्थिति ऐसी है कि सुबह के समय दफ्तर जाने वालों को निकालने के लिए नौकाओं और ट्रैक्टरों का इस्तेमाल करना पड़ा. आउटर रिंग रोड पर बाढ़ की स्थिति के कारण कई आइटी कंपनियों में कामकाज नहीं हो सका.

यहां चर्चा कर दें कि बेंगलुरु में काफी संख्या में बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों के लोग रहते हैं, जो यहां आइटी सहित अन्य क्षेत्रों में काम करते हैं. ये लोग यहां पीजी और फ्लैट में रहते हैं. यहां रहने वाले ज्यादातर बाहरी लोग खाना के लिए ऑनलाइन डिलिवरी पर निर्भर हैं. लेकिन बारिश की वजह से इन्हें खाना मिलना भी मुश्किल हो गया.

शहर के ज्यादातर रेस्टोरेंट बंद कर दिये गये. साथ ही डिलिवरी करने वाले काम पर नहीं जा पाये. सड़कों पर वाहनों की लंबी कतारें लग गयी. सड़कों पर पानी भर जाने की वजह से गाड़ियां जहां-तहां फंस गयी. सड़क पर पानी डिवाइडर के लेवल पर आ गया. फ्लैट के लिफ्ट में भी पानी भर गया.

हवाई अड्डा भी जलभराव से अछूता नहीं रहा. अनेक लोगों ने ट्विटर पर अपनी नाराजगी जाहिर की. इसी तरह के एक पोस्ट में एक वीडियो जारी किया गया जिसमें लोगों को शहर के हवाई अड्डे के प्रवेश द्वार पर पानी के बीच में से गुजरते देखा जा सकता है.

जानेमाने आईटी उद्यमी मोहन दास पई ने ट्विटर पर एक वीडियो डाला है और शीर्षक दिया है ‘‘कृपया बेंगलुरु को देखिए…” इस वीडियो में भगवान गणेश की वेशभूषा में एक व्यक्ति घुटनों तक पानी में जा रहा है और पीछे सड़क पर रेंगते हुए वाहन देखे जा सकते हैं.

एक अन्य व्यक्ति ने लिखा कि वह आउटर रिंग रोड पर पांच घंटे तक फंसा रहा. सरजापुर रोड पर रैंबो ड्राइव लेआउट और सनी ब्रूक्स लेआउट समेत कुछ इलाकों में जलभराव की ऐसी स्थिति है कि सुबह के समय छात्रों और दफ्तर जाने वालों को निकालने के लिए नौकाओं तथा ट्रैक्टरों का इस्तेमाल करना पड़ा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.