प्राथमिक शिक्षा ही छात्र-छात्राओं के भविष्य एवं ज्ञान की आधारशिला:DM

रुद्रप्रयाग : जनपद में प्राथमिक शिक्षा की गुणवत्ता सुधार के लिए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान रतूड़ा में आयोजित एफएलएन आधारित तीन दिवसीय फ्लैक्स कार्ड निर्माण कार्याशाला में जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने शिरकत की तथा प्रशिक्षण ले रहे शिक्षकों से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने उपस्थित शिक्षकों से प्राथमिक शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर करने उनके सुझाव भी लिए। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने डायट कार्यालय परिसर का निरीक्षण भी किया।

जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि प्राथमिक शिक्षा ही छात्र-छात्राओं के भविष्य एवं ज्ञान की आधारशिला है। प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों का नैतिक दायित्व है कि सभी प्राथमिक विद्यालयों में पठन-पाठन कर रहे विद्याार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दें। जिलाधिकारी ने शिक्षकों से अपील की कि आधुनिक समय के हिसाब से शिक्षा में तकनीक का उपयोग करते हुए व्यवहारिक ज्ञान भी उपलब्ध कराया जाए।

प्राथमिक के विद्याार्थियों को किताबों तक सीमित न रखते हुए प्रयोगिक ज्ञान देने का प्रयास करें इसके लिए चार्ट, डायग्राम, फ्लैक्स कार्ड, कंप्यूटर, मोबाइल फोन, इंटरनेट आदि उपकरणों का प्रयोग किया जा सकता है। संवाद के दौरान जिलाधिकारी ने शिक्षकों से उनके विद्यालयों की छात्र संख्या जानी एवं समस्याएं भी सुनीं।

उन्होंने कहा कि किसी भी स्कूल में पानी, बिजली, शौचालय, भवन मरम्मत समेत अन्य समस्याओं के समाधान के लिए उच्च अधिकारियों एवं जिलाधिकारी कार्यालय को अवगत कराएं ताकि समस्याओं का यथासंभव निराकरण किया जा सके। उन्होंने शिक्षकों को छात्र संख्या बढ़ाने एवं उनकी उपस्थिति शत-प्रतिशत रखने के लिए हर संभव प्रयास करने के निर्देश दिए।

कहा कि ग्राम प्रधानों, अभिभावकों एवं पंचायत स्तर के अधिकारियों से समन्वय बनाते हुए स्कूल के सर्वोच्च विकास के लिए प्रयास करें एवं विद्यालय की बैठकों में सभी को आमंत्रित करें ताकि उनके स्तर से समस्याओं का समाधान त्वरित गति से हो सके। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। जिलाधिकारी ने प्राचार्य डायट को प्रशिक्षण संस्थान में बेहतर साफ-सफाई व्यवस्था रखने के भी निर्देश दिए गए।

इस अवसर पर डायट प्राचार्य विनोद प्रसाद सिमल्टी ने अवगत कराया है कि प्राथमिक शिक्षा में शिक्षा की गुणवत्ता को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से तीनों विकास खंडों के प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों के साथ एफएलएन आधारित तीन दिवसीय फ्लैक्स कार्ड निर्माण कार्यशाला का आयोजन किया गया है जो एक नवंबर से तीन नवंबर तक संपन्न होगी जिसमें शिक्षकों को छात्र-छात्राओं को फ्लैक्स कार्ड के माध्यम से कक्षा एक से तीन तक बच्चों को वर्णमाला, जंगली जानवर, पर्यावरण, भावना आदि की जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी।

इस अवसर पर डाॅ. रूचिना पुरी, विजय चैधरी, प्रदीप रंजन चमोली, आनंद सिंह जगवाण सहित डायट के प्रवक्ता एवं प्रशिक्षण ले रहे शिक्षक मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.