उत्तराखंड में रेड अलर्ट,भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका

देहरादून। उत्तराखंड के चमोली में बदरीनाथ और रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर भी पहाडिय़ां दरकने से सफर चुनौतीपूर्ण बना हुआ है। हालांकि सोमवार को यहां आवागमन सुचारु रहा। कुमाऊं के पिथौरागढ़ में भी यही स्थिति बनी हुई है। चीन सीमा को जोड़ने वाले मार्ग अब तक नहीं खोले जा सके हैं।

चमोली जिले में बदरीनाथ धाम के पास लामबगड़ और पागलनाला स्लाइडिंग जोन प्रशासन ने एसडीआरएफ के साथ ही सीमा सड़क संगठन की टीम को तैनात किया हुआ है। यहां बार-बार पहाड़ दरकने से हाईवे पर मलबा आ रहा है। रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ हाईवे पर बांसवाड़ा के पास भी पहाड़ से लगातार मलबा गिर रहा है। सोमवार को भी यहां पर तीन घंटे यातायात बाधित रहा।

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि मंगलवार को पिथौरागढ़, बागेश्वर और चमोली के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। इन जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका है। वहीं नैनीताल, ऊधमसिंह नगर, चम्पावत, देहरादून, हरिद्वार, टिहरी और पौड़ी जिले के लिए ऑरेंज अलर्ट है। उन्होंने बताया कि मौसम का मिजाज गुरुवार तक इसी तरह का रहेगा।

पौड़ी जिले के नैनीडांडा ब्लाक में ब्यूरा गांव के मवेशी लेकर जंगल गए दो व्यक्ति पातालगढ़ नदी को पार कर दूसरी ओर चले गए। इस बीच एकाएक नदी का जलस्तर बढ़ गया और वे फंस गए। सूचना पर आपदा प्रबंधन टीम और पुलिस मौके पर पहुंची। रस्सियों के सहारे दोनों को सुरक्षित निकाल लिया गया।

बारिश और भूस्खलन से कुमाऊं का पिथौरागढ़ जिला सोमवार को भी प्रभावित रहा। धारचूला तहसील के जुम्मा गांव में भूस्खलन की चपेट में आने से महिला लापता हो गई। राजस्व दल और एसडीआरएफ टीम महिला की तलाश कर रही है, लेकिन देर शाम तक उसका कोई पता नहीं चला। इसके अलावा बागेश्वर में अतिवृष्टि से आठ मकान क्षतिग्रस्त हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *