UP पुलिस की दबिश से बवाल

हल्द्वानी। उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर जिले के काशीपुर में बड़ा बवाल हो गया। कुंडा थाना क्षेत्र के भरतपुर गांव में बुधवार शाम दबिश देने आई यूपी के मुरादाबाद की ठाकुरद्वारा पुलिस और ग्रामीणों के बीच फायरिंग हो गई।

फायरिंग में जसपुर के ज्येष्ठ ब्लाक प्रमुख की पत्नी की गोली लगने से अस्पताल में मौत हो गई। घटना में ठाकुरद्वारा पुलिस के एक दारोगा समेत पांच सिपाही भी घायल हो गए। पुलिस के 10-12 अज्ञात लोगों के विरुद्ध हत्या, बलवा, धमकी और आपराधिक षड़यंत्र की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

बुधवार शाम सादी वर्दी में ठाकुरद्वारा पुलिस की टीम दो वाहनों से भरतपुर गांव में जसपुर के ज्येष्ठ ब्लाक उप प्रमुख गुरताज भुल्लर के घर पहुंचीं। UP पुलिस को सूचना मिली थी कि डिलारी क्षेत्र के कांकरखेड़ा निवासी 50 हजार का इनामी बदमाश जफर भरतपुर में ज्येष्ठ ब्लाक प्रमुख गुरताज भुल्लर के घर छिपा है।

टीम ने जैसे ही आरोपित की तलाश शुरू की, ज्येष्ठ प्रमुख और टीम के बीच कहासुनी हो गई। विवाद बढ़ते ही दोनों ओर से फायरिंग शुरू हो गई।

इसी दौरान एक गोली गुरताज की पत्नी गुरप्रीत कौर को लग गई। उसे स्वजन मुरादाबाद रोड स्थित अस्पताल ले गए। जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया।वहीं ठाकुरद्वारा पुलिस के शिवकुमार, राहुल सिंह, संगम, सुमित राठी व अनिल कुमार घायल हो गए। सभी को उपचार के लिए मुरादाबाद ले जाया गया।

गुरप्रीत की मौत की सूचना पर ग्रामीण आक्रोशित हो गए और उन्होंने कुंडा थाने के सामने जसपुर हाईवे पर जाम लगा दिया। काशीपुर विधायक त्रिलोक सिंह चीमा, गदरपुर विधायक अरविंद पांडेय, पूर्व सांसद बलराज पासी और आप नेता जगतार सिंह बाजवा भी ग्रामीणों के समर्थन में धरने पर बैठ गए।

करीब 400 से 500 ग्रामीण मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग पर रात 11 बजे तक अड़े रहे और रात तक हाईवे जाम कर बैठे रहे।डीआइजी कुमाऊं नीलेश आंनद भरणे व एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने रात में ठाकुरद्वारा पुलिस के अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया तो ग्रामीणों ने हाईवे खोला।

दो राज्यों का मामला होने के चलते मामले में आरोप-प्रत्यारोप भी शुरू हो गए। मुरादाबाद के एसएसपी हेमंत कुटियाल ने बताया कि 13 सितंबर को एसडीएम और खनन अधिकारी को बंधक बनाने के मामले में पुलिस ने खनन माफिया के विरुद्ध अभियान चलाया हुआ है।

बुधवार को ठाकुरद्वारा पुलिस की टीम भरतपुर गांव में 50 हजार के इनामी खनन माफिया जफर को गिरफ्तार करने पहुंची थी।आरोपितों ने पुलिस टीम पर फायरिंग करके जफर को छुड़ा लिया। पांच सिपाहियों को भी गोली लगी है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आरोपितों ने दारोगा को भी बंधक बनाकर उसका हाथ तोड़ दिया।

कल परिजनों और ग्रामीणों ने गुरप्रीत का पोस्टमार्टम कराने से इन्कार कर दिया था। आज सुबह पुलिस ने फिर परिजनों को मनाया आैर कामयाब हुए, जिसके बाद सुबह गुरप्रीत का पोस्टमार्टम कराया गया। इसके बाद अंतिम संस्कार किया गया।

यूपी पुलिस की टीम 50 हजार के इनामी बदमाश को पकड़ने आई थी। क्राॅस फायरिंग में एक महिला की मौत एवं कुछ पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। यूपी पुलिस ने दबिश के संबंध में स्थानीय पुलिस को साथ नहीं लिया था। मृतका पक्ष की ओर से तहरीर के बाद ठाकुरद्वारा पुलिस के 10-12 अज्ञात के विरुद्ध आइपीसी की धारा 147, 148, 149, 302, 452, 504 व 120-बी के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

हम मामले की जांच कर रहे हैं। यूपी पुलिस की ओर से हमें लोकल पुलिस को जानकारी दी गई या नहीं। वहीं, यूपी पुलिस के जिन घायल जवानों की बात कही जा रही हैं, उनके साथी उन्हें मुरादाबाद अस्पताल ले गए। इसकी भी हमें कोई जानकारी नहीं दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.