सामी आरा: भारत की पहली मुस्लिम महिला वाणिज्यिक पायलट

उदय दिनमान डेस्कः: सामी आरा भारत की पहली वाणिज्यिक पायलट हैं जो कि उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले की सुंबल तहसील की रहने वाली हैं।वह गुलाम मोहिउद्दीन और मुख्तार बेगम के घर पैदा हुई थी और अपने घर से एक शिक्षित वातावरण प्राप्त किया क्योंकि उसके माता-पिता दोनों शिक्षित थे -पिता एक सरकारी कर्मचारी थे और उनकी मां एक शिक्षिका हैं। सामी ने मध्य प्रदेश के एक कमर्शियल पायलट से शादी की और वो दो प्यारे बेटों की माँ हैं।

आरा ने अपनी प्राथमिक शिक्षा सुंबल तहसील के प्राथमिक विद्यालय से पूरी की और क्षेत्र के लड़कों के हाई स्कूल में अकेली छात्रा थी। मैट्रिक पास करने के बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई के लिए एमएल हायर सेकेंडरी स्कूल, हाजिन में दाखिला लिया। 12 वीं कक्षा की परीक्षा पास करने के बाद, उन्होंने डॉक्टर बनने का लक्ष्य रखा, लेकिन सामान्य प्रवेश परीक्षा में सफलता नहीं पाई।

स्नातक होने के बाद में एक साधारण वेतन पर एक निजी नौकरी का विकल्प चुना।कुछ महीने बाद, आर ने एयर होस्टेस की नौकरी के लिए आवेदन किया और उसका चयन हो गया। लक्ष्य प्राप्त करने के बाद, अब वह एक बड़े प्रयास के लिए खुद को तैयार करने लगी।

कई वर्षों की कड़ी मेहनत के बाद, वह टेक्सास, अमरीका में एक वाणिज्यिक पायलट के रूप में प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए गई, जहां उसने तीन महीने की रिकॉर्ड अवधि में प्रशिक्षण पूरा किया और एक हवाई जहाज उड़ाने के लिए पर्याप्त योग्यता प्राप्त की। नतीजतन, आरा ने लाइसेंस प्राप्त किया और वाणिज्यिक पायलट और कश्मीर घाटी की पहली महिला पायलट बन गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.