केदारनाथ समेत यात्रा पड़ाव में सन्नाटा

रुद्रप्रयाग। आगामी 29 अप्रैल से केदारनाथ यात्र शुरू हो रही है। केदार बाबा के कपाट आने वाले छह महीनों के लिए खुल जाएंगे, लेकिन फिलहाल यात्रियों के दर्शन की अनुमति प्रशासन नहीं दे रहा है। जिससे केदारनाथ समेत यात्रा पड़ाव में भी सन्नाटा पसरा रहेगा। मई महीने में भी स्थिति सामान्य होने की उम्मीद कम ही है।

जून में बारिश का मौसम शुरू हो जाता है। ऐसे में यात्रा के प्रथम चरण में यात्रा के न चलने की पूरी संभावना है। होटल व्यवसायी, ट्रांसपोर्टर की जो एडवांस बुकिंग हुई थी, वह कैंसिल हो गई हैं। गत वर्ष की बात करें तो अप्रैल महीने में होटल लॉज की बुकिंग जून तक फुल हो चुकी थी। इस बार जो बुकिंग हुई भी थी वह कैंसिल हो चुकी हैं।

पिछली 22 मार्च से जनता कर्फ्यू के बाद से मंदिर समिति में पूजाओं से संबंधित जानकारियां, होटलों में बुकिंग ही निरस्त होने शुरू हो गई थी। जनपद में 500 से अधिक छोटे व बड़े होटल हैं। केदारघाटी में यात्रा के दौरान पचास हजार से अधिक छोटे-बड़े व्यापारी यात्रा से जुड़े रहते हैं। जो छोटे व्यापारी हैं वे तो छह महीने की यात्रा में ही साल भर की रोजी-रोटी कमाते हैं।

होटल एसोसिएशन के प्रदीप थपलियाल कहते हैं कि इस बार मार्च के शुरूआत में पचास फीसदी एडवांस बुकिंग हुई थी जो कैंसिल हो गई है। टैक्सी यूनियन के सचिव अजीत राणा कहते हैं कि यात्रा सीजन में वाहन स्वामियों को अच्छी कमाई की उम्मीद रहती थी, लेकिन इस बार उम्मीदें पूरी तरह टूट चुकी हैं।

गढ़वाल मंडल विकास निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक पीएल कवि बताते हैं कि बुकिंग अप्रैल महीने में ही शुरू होती हैं, लेकिन कोरोना महामारी के बाद बुकिंग पर पूरी तरह रोक लग गई है। केदारनाथ मंदिर में होने वाली पूजा की बुकिंग भी नहीं हो रही हैं।

मंदिर समिति के निवर्तमान कार्याधिकारी एमपी जमलोकी ने बताया कि पूजा के लिए बुकिंग आनी शुरू हुई थी, लेकिन कोरोना महामारी में लॉकडाउन के बाद कोई भी जानकारी भक्तों द्वारा नहीं ली जा रही है।

वहीं, रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल के अनुसार, केदारनाथ में मूलभूत सुविधाएं बहाल कर दी गई हैं। शासन के दिशा-निर्देश के अनुसार ही केदारनाथ यात्री के संचालन को लेकर कार्रवाई की जाएगी, उसके हिसाब से ही निर्णय होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *