फिर कोरोना के खतरे की घंटी, घरों में कैद लोग

नई दिल्ली। चीन में एक बार फिर कोरोना का प्रकोप बढ़ने लगा है। वहां रोजोना कोरोनावायरस के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। शनिवार को कोरोना के कुल मामले 998 हो गए है। इसस पहले शुक्रवार को 1006 नए केस सामने आए थे।

कोरोना से चीन के हालात खराब होते जा रहे हैं और इससे पड़ोसी देशों की चिंता भी बढ़ रही हैं। चीन के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, 22 अक्टूबर को कोरोना के 998 नए मामले मिले। इनमें से 207 मरीजों में संक्रमण के साफ लक्षण थे जबकि 791 मरीज एसिम्प्टमैटिक हैं। एसिम्प्टमैटिक मतलब कोरोना के कोई भी लक्षण न पाए जाने वाले मरीज।

इससे एक दिन पहले यानि की 21 अक्टूबर को कोरोना के 1,006 नए मामले मिले थे जिसमें 215 में संक्रमण के साफ लक्षण थे। जबकि 791 मरीज एसिम्प्टमैटिक थे। बता दें कि चीन में एसिम्प्टमैटिक मरीजों का अलग आंकड़ा रखा जाता है जिससे पचा चल सकें की कोरोना के बिना लक्षणों वाले मरीजों की संख्या कितनी है।

हालांकि, चीन में राहत की खबर ये है कि पिछले दिनों कोई भी मौत नहीं हुई। कोरोना से अब तक चीन में 5,226 की मौत हो गई है। वहीं चीन ने लक्षण वाले 257,115 मामलों की पुष्टि की है।

चीन की राजधानी बीजिंग में गुरुवार को कोरोना के 15 संक्रमित मरीज और 2 एसिम्प्टमैटिक मामले मिले। वहीं शुक्रवार को 18 संक्रमित और एक एसिम्प्टमैटिक मामले पाए गए। स्थानीय हेल्थ अधिकारी के मुताबिक, शंघाई में एक भी कोरोना के संक्रमित मरीज नहीं मिले। लेकिन एसिम्प्टमैटिक के 13 केस पाए गए। वहीं चीन के शहर शेनझेन में शुक्रवार को कोरोना के 10 नए मामले आए।

जानकारी के लिए बता दें कि चीन में कोरोना के मामले नए वैरिएंट के कारण बढ़ रहे है।बीएफ-7 सब-वैरिएंट से चीन में कोरोना के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। चीन में कोविड-19 मामलों में तेजी आने का कारण बीएफ-7 और बीए.5.1.7 वैरिएंट बताया गया है। इसके मामले न केवल चीन बल्कि भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और बेल्जियम में भी सामने आ चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.