उत्तराखंड: कोरोना के मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 100 के पार

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना के आठ नए मामले सामने आए हैं, जिनमें कोटद्वार निवासी एक 19 वर्षीय युवक भी शामिल है। एम्स प्रशासन के मुताबिक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कलालघाटी कोटद्वार आइसोलेशन में रखे गए युवक निवासी नैनीडांडा(पौड़ी गढ़वाल) का 17 मई को सैंपल जांच के लिए एम्स ऋषिकेश भेजा गया था, जांच के बाद उसकी पॉजिटिव आई है।

इसके साथ ही दो मामले बागेश्वर, दो नैनीताल और दो ऊधमसिंहनगर में सामने आए हैं। अब प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 104 पहुंच गई है। हालांकि, इनमें से 52 लोग स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं।

प्रदेश में कोरोना का संक्रमण गहराता जा रहा रहा है। ऐसा कोई दिन नहीं जब कोरोना का नया मामला सामने नहीं आ रहा है। स्थिति यह कि पिछले दस दिन में यहां 40 लोगों में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। मंगलवार को 415 रिपोर्ट नेगेटिव मिली हैं, जबकि सात लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। बागेश्वर जिले में पहली बार कोरोना के मामले पाए गए हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले सोमवार को भी प्रदेश में कोरोना के पांच और मामले आए। जनपद देहरादून में मुंबई से देहरादून लौटी वसंत विहार क्षेत्र अंतर्गत ऋषि विहार कॉलोनी निवासी एक पुजारी की 60 वर्षीय पत्नी कोरोना पॉजिटिव मिली है, जबकि जनपद नैनीताल में दिल्ली से लौटी लामाचौड़ क्षेत्र की एक महिला और उत्तरकाशी में गुरुग्राम से लौटे भटवाड़ी निवासी 23 वर्षीय युवक की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

इसके अलावा रविवार को मुंबई से लौटे उत्तरकाशी का एक 35 वर्षीय युवक भी कोरोना संक्रमित मिला है। एम्स ऋषिकेश में जांच के बाद वह उत्तरकाशी अपने घर पहुंच गया। देर रात चमोली जनपद में दिल्ली से लौटा एक युवक भी कोरोना संक्रमित पाया गया।

स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने बताया कि दून निवासी महिला 14 मई से होम क्वारंटाइन थी। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद महिला और उनके पति को दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। जबकि महिला की मां, बेटे, भतीजा और भतीजी और किरायेदार डेयरी संचालक, उसकी पत्नी और दो बच्चों को ग्राफिक एरा में क्वारंटाइन किया गया है।

वहीं लामाचौड़ निवासी महिला 16 मई को पति के साथ दिल्ली से लौटी थी। गले में खरांस और अन्य लक्षण मिलने पर उसे एसटीएच में भर्ती करा दिया गया था। अब उसकी तीमारदारी में लगे पति को भी भर्ती कर लिया गया है।

उत्तरकाशी में कोरोना पॉजिटिव आया युवक 15 मई से क्ववारंटाइन में था। उत्तरकाशी का एक अन्य केस भी एम्स ऋषिकेश में डायग्नोस हुआ है। वह अब घर पहुंच चुका है। जिस बस में वह उत्तरकाशी गया उसके चालक समेत 26 लोगों को भी क्वारंटाइन किया जा रहा है।

चमोली जनपद में संक्रमित पाया गया युवक 15 मई को परिवार के साथ दिल्ली से लौटा था। श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में उसका सैंपल लिया गया था, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। स्वास्थ्य विभाग ने उसे अस्पताल में भर्ती करा दिया। साथ ही परिवार के चार अन्य सदस्यों को आइसोलेट किया है। सभी की निगरानी की जा रही है।

अन्य राज्यों से लौटे प्रवासी स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद एहतियात के तौर पर क्वारंटाइन किए जा रहे हैं। बॉर्डर पर बने चेकपोस्ट पर इन लोगों के स्वास्थ्य की जांच के साथ रैंडम सैंपलिंग भी की जा रही है। जिससे कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की पहचान हो सके। प्रदेशभर में वर्तमान में 52730 लोग होम क्वारंटाइन में और 6902 लोग फैसिलिटी क्वारंटाइन में हैं।

दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में सोमवार को उस वक्त अफरा-तफरी मच गई, जबकि एक महिला बिना सूचना अस्पताल से निकल गई। महिला कोरोना संदिग्ध थी, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वह 15 मई से अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थी। हालांकि कुछ देर बाद ही उसे अस्पताल के गेट से पकड़ कर वापस लाया गया।

आजाद नगर कॉलोनी निवासी कोरोना संदिग्ध महिला तीन दिन से दून अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थी। महिला के साथ उसका छोटा बच्चा भी था। लैब से महिला के सैंपल की जांच रिपोर्ट न्गेटिव आने के बाद सोमवार सुबह उसे अस्पताल से डिस्चार्ज होना था।

वार्ड में ड्यूटी पर तैनात सिस्टर डिस्चार्ज की प्रक्रिया पूरी करा रही थीं। इसी बीच महिला गायब हो गई। जिसके बाद अस्पताल में अफरातफरी मच गई। कर्मचारियों ने उसे ढूंढा और उसके पति को फोन किया।

कुछ देर बाद महिला अस्पताल के गेट नंबर दो के बाहर ही मिल गई। कर्मचारी उसे वापस वार्ड में लाए। दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना का कहना है कि महिला बिना बताए नीचे चली गई थी। जिसे बाद में डिस्चार्ज कर उसके घर पहुंचाया गया।

दून में कोरोना पॉजिटिव मिली महिला बस से दून पहुंची थी। उत्तरकाशी के जोगात गांव के एक ही बिरादरी के 17 लोग 14 मई को मुंबई से निजी बस में दून पहुंचे थे। बस में दून में रहने वाले आठ थे। जबकि उत्तरकाशी निवासी नौ लोग बस में वहां चले गए थे।

वहां गांव के प्रधान एवं स्थानीय अफसरों को सूचना दे दी गई है। कोरोना के जिला नोडल अधिकारी डॉ. दिनेश चौहान ने बताया कि इनमें कई की सैंपलिंग भी हुई है। जिनकी सैंपलिंग नहीं है अब स्थानीय स्तर पर उनके भी सैंपल लिए जाएंगे।

बताया गया कि उत्तरकाशी में नौ में आठ लोग पंचायत घर में क्वारंटाइन में हैं। जबकि एक व्यक्ति टिहरी स्थित पनियाला गांव चला गया था। उसके बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है। मुंबई से आने वाली बस और उत्तरकाशी छोड़ने गई बस के चालक व परिचालक की भी जानकारी ली गई है। उधर, एम्स ऋषिकेश में जांच करा उत्तरकाशी अपने घर जा पहुंचे युवक ने भी सिस्टम की कलई खोल दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *