पांच को उत्तराखंड गौरव सम्मान

देहरादून: राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर दिए जाने वाले उत्तराखंड गौरव सम्मान पुरस्कार की सरकार ने घोषणा कर दी है। सरकार ने रविवार को पुरस्कार के लिए चयनित पांच विभूतियों के नामों की घोषणा की।

इनमें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, देश के पहले चीफ आफ डिफेंस स्टाफ रहे जनरल स्व बिपिन रावत, केंद्रीय फिल्म सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी, प्रसिद्ध गीतकार स्व गिरीश चंद्र तिवारी गिर्दा और साहित्यकार स्व वीरेन डंगवाल के नाम शामिल हैं।

उत्तराखंड गौरव सम्मान की शुरुआत वर्ष 2021 के स्थापना दिवस से हुई थी। प्रदेश की पांच विभूतियों को यह पुरस्कार दिया जाता है। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित समिति इन नामों का चयन करती है। सामान्य प्रशासन विभाग ने उत्तराखंड गौरव सम्मान पुरस्कार के लिए चयनित नामों की घोषणा की। इनमें तीन विभूतियों को यह सम्मान मरणोपरांत दिया जा रहा हैं।

पिछले वर्ष इस पुरस्कार के लिए पूर्व मुख्यमंत्री स्व नारायण दत्त तिवारी, पर्यावरणिवद् पद्मभूषण डा अनिल प्रकाश जोशी, साहित्यकार रस्किन बांड, पर्वतारोही बछेंद्री पाल व लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी का चयन किया गया था।

तब ये पुरस्कार वितरित नहीं किए जा सके थे। इस बार दोनों वर्ष के पुरस्कार राज्य स्थापना दिवस पर नौ नवंबर को पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम में प्रदान किए जाएंगे। पुरस्कार में एक लाख रुपये की सममान राशि, प्रशस्ति पत्र व प्रतीक चिह्न प्रदान किया जाता है।

आंदोलनकारी सम्मान परिषद के पूर्व अध्यक्ष व भाजपा नेता रविंद्र जुगरान ने स्कूल व कालेज में राज्य निर्माण की गौरवगाथा पढ़ाने का सुझाव दिया है। उन्होंने कहा कि इस विषय को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए।

रविवार को एक बयान में भाजपा नेता ने कहा कि राज्य गठन को 22 वर्ष होने जा रहे हैं लेकिन वर्ष 1994 के बाद जन्में बच्चों को राज्य निर्माण आंदोलन की जानकारी नहीं है। अब समय की मांग है कि आने वाली पीढिय़ों को इसकी जानकारी दी जाए।

इसके लिए स्कूल व कालेजों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएं, जिनमें राज्य निर्माण से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराई जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.