पंडित गोविंद बल्लभ पंत के प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की

पौड़ी: भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत की जयंती के अवसर पर आज घुड़दौड़ी में क्षेत्रीय विधायक मुकेश सिंह कोली व जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे ने पंडित गोविंद बल्लभ पंत के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की। आयोजित कार्यक्रम में कोरोना गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए समिति संख्या में लोग उपस्थित रहे। इस दौरान वहां उपस्थित अन्य गणमान्य ने भी पंडित गोविंद बल्लभ पंत के प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की।

विधायक श्री कोली ने आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि गोविंद बल्लभ पंत जी महात्मा गांधी के जीवन दर्शन को देश की जनशक्ति में आत्मिक ऊर्जा का स्रोत माना जाते है। गोविंद बल्लभ पंत जी ने देश के राजनेताओं का ध्यान अपनी पारदर्शी कार्यशैली से आकर्षित किया। भारत के गृहमंत्री के रूप में वह आज भी प्रशासकों के आदर्श हैं। पंत जी चिंतक, विचारक, मनीषी, दूरदृष्टा और समाज सुधारक थे। उन्होंने साहित्य के माध्यम से समाज की अंतर्वेदना को जनमानस में पहुंचाया. उनका लेखन राष्ट्रीय अस्मिता के पार्श्व चिन्हांकन द्वारा लोगों के समक्ष विविध आकार ग्रहण करने में सफल हुआ।

जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने कहा कि महान स्वतंत्रता सेनानी गोविंद बल्लभ पंत जी का नाम जब भी लिया जाता है तो हमारे सामने एक ऐसे आंदोलनकारी की तस्वीर उभर का सामने आती है, जिसने आजादी की लड़ाई में सक्रियता से भाग लिया। उनका योगदान ना केवल भारत को स्वतंत्रता दिलाने में था। बल्कि आजादी के बाद भारतीय संविधान में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा दिलाने और जमींदारी प्रथा को खत्म कराने में भी था।

इस अवसर पर पूर्व जिलाध्यक्ष राजकुमार पोरी,  कुलसचिव डॉ. यशवीर सिंह, डॉ. एच गोयल, डॉ. आशुतोष गुप्ता, डॉ. संजय कुमार डिमरी, डॉ.संजीव नैथानी, प्रेमचंद ध्यानी, अनिल नेगी, दीपक, नवीन, राजेन्द्र, विनीत गिरी, मेहरबान सिंह अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उदय दिनमान’ एक वैचारिक आंदोलन भी है। इस आंदोलन का सरोकार आर्थिकी, राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास व विकास से है। अकेले उत्तराखंड की बात करें तो यह क्षेत्र सदियों से न केवल धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है, बल्कि यह क्षेत्र मानव सभ्यता-संस्कृति का उद्गम स्थल भी समझा जाता रहा है। आधुनिक समय में विकास की अवधारणा के जन्म लेने के साथ हिमालयी समाज-संस्कृति को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ये चुनौतियां हमारी संस्कृति पर निरंतर प्रहार कर इसे गहरा आघात पहुॅचाने में तुली हुई है। हालांकि, सामाजिक, शारीरिक, आर्थिक आदि कष्टों के बावजूद यह संस्कृति अपने ताने-बाने से छिन्न-भिन्न नहीं हो सकी है। मगर निरंतर जारी प्रहारों से एकबारगी चितिंत होना स्वाभाविक है। ‘उदय दिनमान’ का प्रयास है कि राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास, विकास व आर्थिकी पर निरंतर हो रहे आघातों से जनमानस को सजग रखने का प्रयास किया जाए। यह कहकर हम कोई बड़ा दंभ नहीं भर रहे हैं। यह हमारा मात्र एक लघु प्रयास भर है। हमारी अपेक्षा व आकांक्षा है कि हमारे इस प्रयास में आपकी भागीदारी ही नहीं सुनिश्चित हो, बल्कि आपके विस्तृत अनुभवों, विचारों, सुझावों व गतिविधियों का लाभ ‘उदय दिनमान’ के द्वारा व्यापक जनमानस तक पहुंचे। उक्त क्रम में ‘उदय दिनमान’ के प्रयासों को बल प्रदान करने के निमित आप अपने अनुभवों, सुझावों व विचारों को लेख अथवा यात्रावृत्त, संस्मरण, रिर्पोट, कथा-कहानी, कविता, रेखाचित्र, फोटो आदि के रूप में प्रेषित करने का कष्ट करें। संपर्क करें। https://www.udaydinmaan.com/ संतोष बेंजवाल संपादक कन्हैया विहार, निकट कारगी चैक, देहरादून (उत्तराखंड) udaydinmaan@gmail.com Phone:0135-3576257 Mob:+91.9897094986 Email: udaydinmaan@gmail.com