गगन त्रिपाठी का आईडिया एक बार फिर चमका

उत्तराखंड-(वाह) हल्द्वानी के गगन का IDEA एक बार फिर चमका, मिला यंग एंटरप्रेन्योर का इंडियन आईकॉन अवॉर्ड

हल्द्वानी: इनडोर और आउटडोर प्लांट को पूरे भारत में ऑनलाइन मार्केटिंग के जरिए पहुंचाने वाले हल्द्वानी निवासी प्लांट ऑर्बिट के संस्थापक गगन त्रिपाठी का आईडिया एक बार फिर चमका है। इस बार उन्हें इंडियन ग्लोबल आईकॉन मैगजीन की तरफ से गगन को बतौर यंग एंटरप्रेन्योर होने के चलते इंडियन प्राइम आईकॉन अवॉर्ड 2022 से नवाजा गया है।

हल्द्वानी के मुखानी निवासी गगन त्रिपाठी पंतनगर यूनिवर्सिटी में पीजी के छात्र हैं इसके अलावा उन्होंने 3 साल पहले अंडर ग्रेजुएशन करते हुए प्लांट ऑर्बिट की स्थापना की थी, छोटी सी उम्र में ही बेहतर सोच और हॉर्टिकल्चर के क्षेत्र में बेहतर काम करने की दिशा में गगन ने नयाब आईडिया निकाला

उन्होंने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का बेहतर इस्तेमाल करते हुए plantorbit.com की स्थापना करते हुए 400 प्रकार के इनडोर और आउटडोर प्लांट्स की मार्केट तैयार की। पूरे भारत में अपने क्लाइंट्स को इनडोर और आउटडोर प्लांट्स पहुंचाने के लिए पूरा मैकेनिज्म में तैयार किया।

और नैनीताल, भवाली और मुखानी में इनडोर व सैकुलेंट्स पौधों पर रिसर्च कर नए पौधे तैयार किए और उन्हें ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए पूरे देश में पहुंचाने का काम शुरू किया। देखते ही देखते गगन त्रिपाठी का यह आइडिया हिट हो गया। यंग एंटरप्रेन्योर के तौर पर गगन को कई सम्मान मिल चुके है।

अब तक बेस्ट स्टार्टअप आइडिया वर्ड 2022, फायर बॉक्स बेस्ट एग्रीटेक स्टार्टअप अवार्ड, यूपी बुक ऑफ रिकॉर्ड्स 2020, सहित कई सम्मान गगन अपने नाम कर चुके हैं। इंडियन ग्लोबल आइकॉन मैगजीन द्वारा इंडियन प्राइम आईकॉन अवॉर्ड दिए जाने पर गगन त्रिपाठी ने कहा कि आने वाला दौर इंडोर प्लांट्स का है, घरों में लोग धीरे-धीरे इनडोर पौधे लगाकर अपने घर की सुंदरता को बढ़ाने के साथ ही हरियाली लाने के विचार को आगे बढ़ा रहे है।

पिछले 5 सालों में मेट्रो सिटी और छोटे बड़े शहरों में लोग अपने घरों की सुंदरता बढ़ाने के लिए साथ ही अपने आसपास का वातावरण हरा भरा बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के इनडोर और आउटडोर पौधे लगाकर बेहतर वातावरण तैयार कर रहे हैं और इसी उद्देश्य के साथ 400 से अधिक पौधों की वैरायटी को प्लांट ऑर्बिट ने लोगों तक पहुंचाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.