‘डेल्टा वैरिएंट’ से गंभीर संक्रमण का खतरा

न्यूयार्क। 2019 में शुरू हुए कोरोना वायरस ने दुनिया के देशों के सफर में कई रूप बदले हैं। सभी रूपों में सबसे अधिक खतरनाक डेल्टा वैरिएंट है क्योंकि यह अत्यधिक संक्रामक होने के साथ ही अधिक खतरनाक भी है। अमेरिका की मीडिया रिपोर्ट ने दावा किया है कि वायरस का ये वैरिएंट चिकनपॉक्स यानि चेचक की तरह आसानी से फैल सकता है।

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा जारी किए गए डाटा की माने तो जिस डेल्टा वैरिएंट की पहचान पहली बार भारत में हुई थी वह वैक्सीन की खुराक ले चुके लोगों से भी फैल सकता है वह भी बिल्कुल उसी दर से जैसे बिना वैक्सीन की खुराक लिए लोगों से। CDC के निदेशक डॉक्टर रोशेल पी वालेंस्की (Dr Rochelle P Walensky) ने मंगलवार को बताया कि जिन लोगों ने वैक्सीन ले ली है उनके नाक और गले में भी उसी मात्रा में डेल्टा वैरिएंट होंगे जितने की बगैर वैक्सीन लिए लोगों में और दोनों एक ही स्पीड के साथ लोगों को संक्रमित करने में सक्षम होंगे।

डेल्टा वैरिएंट का संक्रमण उन वायरस से कहीं अधिक तेजी से फैलता है जो MERS, SARS, इबोला, साधारण जुकाम, फ्लू, चेचक (smallpox) का कारण हैं। साथ ही यह चेचक के वायरस से कहीं अधिक संक्रामक होता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट सबसे अधिक संक्रामक हैं और इससे गंभीर संक्रमण का खतरा है। इसी वैरिएंट के कारण दुनियाभर में इन दिनों कोविड-19 महामारी के तेजी से फैलने का कारण बनता जा रहा है। अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से शुक्रवार सुबह जारी किए गए डाटा के अनुसार वैश्विक कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 19 करोड़ 65 लाख के पार चला गया है। वहीं अब तक कुल मरने वाले संक्रमितों की संख्या 41 लाख 90 हजार से अधिक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

उदय दिनमान’ एक वैचारिक आंदोलन भी है। इस आंदोलन का सरोकार आर्थिकी, राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास व विकास से है। अकेले उत्तराखंड की बात करें तो यह क्षेत्र सदियों से न केवल धार्मिक आस्थाओं का केंद्र रहा है, बल्कि यह क्षेत्र मानव सभ्यता-संस्कृति का उद्गम स्थल भी समझा जाता रहा है। आधुनिक समय में विकास की अवधारणा के जन्म लेने के साथ हिमालयी समाज-संस्कृति को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। ये चुनौतियां हमारी संस्कृति पर निरंतर प्रहार कर इसे गहरा आघात पहुॅचाने में तुली हुई है। हालांकि, सामाजिक, शारीरिक, आर्थिक आदि कष्टों के बावजूद यह संस्कृति अपने ताने-बाने से छिन्न-भिन्न नहीं हो सकी है। मगर निरंतर जारी प्रहारों से एकबारगी चितिंत होना स्वाभाविक है। ‘उदय दिनमान’ का प्रयास है कि राजनीति, समाज, संस्कृति, इतिहास, विकास व आर्थिकी पर निरंतर हो रहे आघातों से जनमानस को सजग रखने का प्रयास किया जाए। यह कहकर हम कोई बड़ा दंभ नहीं भर रहे हैं। यह हमारा मात्र एक लघु प्रयास भर है। हमारी अपेक्षा व आकांक्षा है कि हमारे इस प्रयास में आपकी भागीदारी ही नहीं सुनिश्चित हो, बल्कि आपके विस्तृत अनुभवों, विचारों, सुझावों व गतिविधियों का लाभ ‘उदय दिनमान’ के द्वारा व्यापक जनमानस तक पहुंचे। उक्त क्रम में ‘उदय दिनमान’ के प्रयासों को बल प्रदान करने के निमित आप अपने अनुभवों, सुझावों व विचारों को लेख अथवा यात्रावृत्त, संस्मरण, रिर्पोट, कथा-कहानी, कविता, रेखाचित्र, फोटो आदि के रूप में प्रेषित करने का कष्ट करें। संपर्क करें। https://www.udaydinmaan.com/ संतोष बेंजवाल संपादक कन्हैया विहार, निकट कारगी चैक, देहरादून (उत्तराखंड) udaydinmaan@gmail.com Phone:0135-3576257 Mob:+91.9897094986 Email: udaydinmaan@gmail.com