गंगा में तैरती दिखी रंग-बिरंगी राफ्ट

ऋषिकेश: मुनि की रेती क्षेत्र में एक बार फिर से गंगा रंग-बिरंगी राफ्टों से गुलजार होने लगी है। बीते 10 सितंबर से शुरू हुई राफ्टिंग सीजन के बाद पर्यटक लगातार राफ्टिंग के लिए ऋषिकेश पहुंच रहे हैं। इससे राफ्टिंग व्यावसायियों के चेहरे पर भी रौनक लौट आई है। इस वीकेंड पर पर्यटकों की संख्या में इजाफा होने की उम्मीद जताई जा रही है।

मुनि की रेती क्षेत्र में करीब 500 पर्यटकों ने गंगा में राफ्टिंग का लुत्फ उठाया। गंगा का जलस्तर अधिक होने के कारण फिलहाल ब्रह्मपुरी से रामझूला तक 10 किमी की दूरी तक ही राफ्टिंग की अनुमति दी गई है। वहीं राफ्टिंग शुरू होते ही पर्यटकों ने ऑनलाइन बुकिंग करानी भी शुरू कर दी है।

राफ्टिंग रोटेशन समिति के अध्यक्ष दिनेश भट्ट ने बताया कि आने वाले वीकेंड पर पर्यटकों की संख्या में इजाफा होने की उम्मीद। गंगा का जलस्तर और कम होने के बाद शिवपुरी से राफ्टिंग का संचालन शुरू किया जाएगा। कहा कि पर्यटकों की सुरक्षा पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है।

शनिवार और रविवार के लिए पहले ही ऑनलाइन बुकिंग हो चुकी है। वहीं क्षेत्र के जंगल कैंप में भी पर्यटकों की भीड़ जुटने लगी है। मौसम साफ होने के बाद अब पर्यटक कैंप में रुकना पसंद कर रहे हैं। सोमवार को भी शिवपुरी और नीलकंठ मार्ग के कैंप पर्यटकों से गुलजार रहे।

राफ्टिंग शुरू होने के बाद से मुनि की रेती में बदरीनाथ मार्ग पर जाम की समस्या बढ़ गई है। जिसको देखते हुए अगले शनिवार और रविवार को राफ्टिंग वाहनों को खारास्त्रोत लोनिवि तिराहे से वाया बाईपास मार्ग से तपोवन भेजा जाएगा।

बीती 10 सितंबर को राफ्टिंग शुरू होने के बाद से क्षेत्र में भारी संख्या में पर्यटक पहुंचने लगे हैं। वहीं सड़क पर राफ्टिंग वाहनों के दबाव के कारण खारास्त्रोत से तपोवन तक जाम की स्थिति के चलते यातायात व्यवस्था लड़खड़ाने लगी है।

ऐसे में यातायात पुलिस ने राफ्टिंग वाहनों को खारास्त्रोत स्थित लोनिवि तिराहे से वाया बाईपास मार्ग से तपोवन भेजने का निर्णय लिया है। यातायात निरीक्षक सिद्धार्थ कुकरेती ने बताया कि अगले शनिवार और रविवार से यह यातायात प्लान लागू किया जाएगा। इससे मुख्य मार्ग पर लोगों को ट्रैफिक की समस्या से निजात मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.