जिलाधिकारी राजकीय इंटरमीडिएट काॅलेज घिमतोली पहुंचे

रुद्रप्रयाग :  जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने विकास खंड अगस्त्यमुनि के घिमतोली गाँव में पहुंचकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं। उन्होंने प्राप्त शिकायतों का स्थलीय निरीक्षण करने के साथ ही अन्य समस्याओं के समाधान हेतु संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया।

जिलाधिकारी ने बताया कि आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देने के साथ ही ग्रामीणों की समस्याओं को लेकर जनपद के चयनित 75 राजस्व गाँव में 75 अधिकारियों को स्थलीय निरीक्षण, भ्रमण के साथ ही अनिवार्य रूप से रात्रि प्रवास हेतु निर्देशित किया गया है। इससे जहाँ एक ओर अधिकारियों को जमीनी स्तर पर हो रहे विकास कार्यों की जानकारी हो सकेगी वहीं ग्रामीण भी उन्हें अपनी समस्या से आसानी से अवगत करा सकेंगे।

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत जिलाधिकारी शनिवार को राजकीय इंटरमीडिएट काॅलेज घिमतोली पहुंचे। यहाँ ग्रामीणों के साथ आयोजित चैपाल के दौरान घिमतोली गाँव की प्रधान बसंती देवी ने जिलाधिकारी को मुख्य मोटर मार्ग से स्वास्थ्य केंद्र तक निर्माणाधीन मोटर मार्ग, गाँव के विभिन्न तोकों में पेयजल की समस्या के साथ ही आपदा के दृष्टिगत खतरे की जद में आ रहे पैदल मार्गों, आवासीय भवन व गौशालाओं के संबंध में अवगत कराया।

क्षेत्र पंचायत सदस्य अर्जुन सिंह नेगी सहित अन्य जन प्रतिनिधियों ने उद्यान विभाग द्वारा आईजीएल को लीज पर दी गई भूमि को पुनः उद्यान विभाग को दिए जाने की मांग की गई। उन्होंने बताया कि आईजीएल संस्था द्वारा पूर्व में निर्धारित शर्तों के अनुसार स्थानीय युवाओं को रोजगार नहीं दिया जा रहा है। सामाजिक कार्यकर्ता लक्ष्मण सिंह नेगी ने ग्रामीणों की खेती को जंगली जानवरों द्वारा किए जा रहे नुकसान को लेकर निराकरण को आवश्यक बताया।

पूर्व सदस्य क्षेत्र पंचायत मगन सिंह नेगी ने आयोजित कार्यक्रम स्थल (रा.इं.काॅ. घिमतोली) में अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त हुए पैदल मार्ग से विद्यालय को संभावित खतरे को लेकर अवगत कराया। आंगनबाड़ी कार्यकत्री सुरजी देवी ने क्षेत्रफल व जनसंख्या के आधार पर अतिरिक्त आंगनबाड़ी कार्यकत्री की तैनाती की मांग की। इस दौरान कुल 25 शिकायतें प्राप्त हुई तथा सभी शिकायतों के आधार पर जिलाधिकारी द्वारा स्थलीय निरीक्षण किया गया।

जिलाधिकारी ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित स्थानीय लोगों के साथ घिमतोली व स्वांरी ग्वांस का पैदल निरीक्षण किया। उन्होंने स्वास्थ्य केंद्र तक निर्माणाधीन सड़क के सुदृढ़ीकरण हेतु एक सप्ताह अंतर्गत एस्टीमेट तैयार करने, घिमतोली में मनरेगा योजनांतर्गत दस लाख रुपए की लागत से तैयार हो रहे अमृत सरोवर की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिए जाने, घिमतोली में बनकर तैयार हो चुके आंगनबाड़ी केंद्र को हस्तांतरित करने, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत वंचित पात्र लाभार्थियों का नाम सूची में सम्मिलित किए जाने हेतु आवश्यक कार्यवाही के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।

इससे पूर्व पहली बार जिलाधिकारी के गाँव में पहुंचने पर उत्साहित स्थानीय जन प्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने उनका फूल- मालाओं से स्वागत किया। जिलाधिकारी ने कहा कि सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत गाँव में हो रहे विकास कार्यों की जानकारी ग्रामीणों को होनी आवश्यक है। ग्रामीणों से सीधे संवाद करते हुए उन्होंने विद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के अभिभावकों से अपील करते हुए कहा कि बच्चों की शिक्षा व खान पान पर हमें अनिवार्य रूप से ध्यान देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि ग्रामीणों की शिकायतों की लगातार माॅनीटरिंग की जाएगी। साथ ही समस्या के आधार पर अगले तीन से छह माह में उनके निराकरण की कोशिश की जाएगी। इसके अलावा उन्होंने ग्रामीणों से स्वरोजगार सहित अन्य संभावना वाले क्षेत्रों में किए जाने वाले कार्य हेतु सुझाव भी मांगे। साथ ही कहा कि प्रशासनिक स्तर पर ग्रामीणों को हर तरह की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु जिला प्रशासन तत्पर है।

इस अवसर पर उप प्रधान प्रेम सिंह नेगी, बलवंत सिंह नेगी, वीर सिंह नेगी, कमल सिंह सहित राजस्व, लो.नि.वि. आदि विभागीय अधिकारी व बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मोजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.