ग्रामीण परिवेश में महिलाओं की आर्थिकी और मजबूत बनाये

रुद्रप्रयाग:एनआरएलएम के तहत स्वयं सहायता समूहों में ग्रामीण महिलाओं की आजीविका बढ़ाने के लिए आरसेटी द्वारा क्षेत्र में निरंतर कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जा रहा है, ताकि ग्रामीण परिवेश में महिलाओं की आर्थिकी और मजबूत बनाया जा सके।
जनपद के विकास खंड ऊखीमठ के टूरिस्ट विलेज/देवरियाल बेस कैंप सारी में आरसेटी रुद्रप्रयाग द्वारा ग्रामीण महिलाओं की आजीविका को बढ़ाने के लिए जूट के कैरीबैग, मनीपर्स, लेडीज हैंड बैग, फोल्डर आदि के उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण गत 01 नवंबर से शुरू किया गया है।

13 नवंबर तक चलने वाले इस प्रशिक्षण में समूह की महिलाएं बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं। मास्टर ट्रेनर किरन नेगी द्वारा महिलाओं को जूट के विभिन्न प्रकार के उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। महिलाएं सिलाई मशीन से सिलकर जूट के कैरीबैग, मनीपर्स तैयार करने लग चुकी हैं। प्रशिक्षण को लेकर महिलाएं काफी उत्साहित दिखी।
इस दौरान एसबीआई ग्रामीण स्वरोजागार प्रशिक्षण संस्थान के निदेशक के.एस.रावत, सहायक खंड विकास जी.एल.आर्य, एलडीएम विवेक कुमार, सहायक निदेशक दुग्ध विकास एस.के. सिंह द्वारा कार्यक्रम में हिस्सा लेकर महिलाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित  किया गया और स्वरोजगार की संभावनाओं पर भी उनके साथ चर्चा की गई। कहा कि प्रशिक्षण के बाद उन्हें रोजगार से जोड़ने का हर संभव प्रयास किया जाएगा।

इसके साथ ही संबंधित अधिकारियों द्वारा विभागीय योजनाओं की भी जानकारी दी गई। प्रशिक्षण का उद्देश्य स्वयं सहायता समूहों की आजीविका संबर्धन एवं अधिक से अधिक महिलाओं को स्वरोजगार उपलब्ध कराना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.