हिमपात से बढ़ी ठंड, जमने लगे झरने

चमोली: उत्तराखंड में आज मौसम का मिजाज बदला नजर आया। पहाड़ से मैदान तक आज बादल छाए रहे। वहीं, देर शाम बदरीनाथ धाम में बर्फबारी हुई। जिससे ठंड और बढ़ गई है। चमोली जनपद में सुबह से ही मौसम खराब था, दोपहर बाद अचानक धाम में और ऊंची चोटियों पर बर्फबारी शुरू हो गई।

हालांकि बदरीनाथ में बर्फ जमी नहीं, लेकिन ऊंची चोटियों में ताजी बर्फ जम गई है। इसके साथ ही हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, रुद्रनाथ सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी हुई है, जिससे मौसम में ठंडक आ गई है। वहीं, भारत-चीन सीमा पर स्थित नीती घाटी में कड़ाके की ठंड पड़ रही है।

रात को यहां पर पारा माइनस तक पहुंच रहा है जिससे यहां बहने वाले गदेरे और झरने जमने लग गए हैं। नीती घाटी में कड़ाके की ठंड से वहां शीतलहर भी चल रही है। सर्दियों में पूरी घाटी बर्फ से लकदक हो जाती है।

ठंड बढ़ने के साथ ही यहां रहने वाले ग्रामीण शीतकालीन प्रवास की ओर लौट जाते हैं। घाटी में सेना और आईटीबीपी के जवान ही तैनात रहते हैं। यहां ठंड के कारण बहने वाले झरने और गदेरे जम जाते हैं जिससे परेशानी उठानी पड़ती है।

उधर, मौसम वैज्ञानिकों ने राज्य के पर्वतीय के साथ ही मैदानी इलाकों में भी मौसम के मिजाज बदलने की संभावना जताई है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के मुताबिक, उत्तरकाशी, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़ और रुद्रप्रयाग में 3500 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में अगले 24 घंटे में हल्की बारिश के साथ ही बर्फबारी की संभावना है।

यदि पर्वतीय इलाकों में बारिश संग बर्फबारी होती है, तो इसका असर ऊंचाई वाले इलाकों के साथ ही मैदानी इलाकों में भी ठंड के रूप में देखने को मिलेगा। मौसम वैज्ञानिक विक्रम सिंह के मुताबिक, राजधानी दून में आसमान में बादल छाए रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.